DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लंबे धरने में बदल सकती है रालोद की महापंचायत

कमिश्नरी पर गन्ने के मुद्दे को लेकर रालोद की महापंचायत गुरुवार को पूर्वान्ह 11 बजे शुरू होगी। रालोद ने महापंचायत में एक लाख किसान जुटने का दावा किया है। माना जा रहा है कि महापंचायत लंबे धरने में तब्दील हो सकती है। रालोद नेताओं ने दावा किया है कि वेस्ट के विभिन्न गांवों में बुधवार देर शाम करीब 800 बसें किसानों को लाने के लिए पहुंच गई हैं। 

महापंचायत को देखते हुए मेरठ कमिश्नरी पर 16 मजिस्ट्रेट, भारी पुलिस बल और पीएसी व आरएफ की दो-दो कंपनियां तैनात की गई हैं। कमिश्नरी की ओर जाने वाले सभी रास्तों की नाकेबंदी कर रूट डायवर्ट कर दिए गए हैं।

वेस्ट में गन्ने के आंदोलन की दिशा आज मेरठ कमिश्नरी पर होने जा रही रालोद की महापंचायत तय करेगी। महापंचायत पर प्रदेश सरकार की भी निगाहें लगी हैं। बुधवार को दिन भर लखनऊ से मंडलायुक्त, डीएम और आईजी, डीआईजी से महापंचायत की रणनीति को लेकर पल-पल की जानकारी ली जाती रही। खुफिया विभाग ने रिपोर्ट दी है कि महापंचायत अनिश्चितकालीन धरने में बदल जाएगी।

बुधवार देर शाम कमिश्नरी को जाने वाले सभी रास्ते बैरिकेटिंग कर सील कर दिए गए। छह सीओ, 20 एसएचओ और एसओ, 100 सब इंस्पेक्टर, 200 कांस्टेबिल, दो कंपनी पीएसी और दो कंपनी आरएफ महापंचायत में तैनात की गई हैं। फायर बिग्रेड की गाड़ियां और एम्बुलैंस भी लगाई गई हैं। बुधवार देर शाम रालोद के विधायकों और सांसदों ने किसानों को लामबंद कर महापंचायत में लाने के लिए देहात क्षेत्रों में डेरा डाल दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लंबे धरने में बदल सकती है रालोद की महापंचायत