DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अपर श्रमायुक्त दफ्तर पर श्रमिकों का हंगामा

बढ़ती महंगाई के अनुसार न्यूनतम वेतन बढ़ाने की मांग को लेकर सैकड़ों श्रमिकों ने अपर श्रमायुक्त दफ्तर पर प्रदर्शन किया। श्रमिकों ने हंगामा करते हुए मजदूरों का शोषण रोकने और ट्रेड यूनियन गतिविधियों में पुलिस का दखल खत्म करने की मांग की।

बुधवार सुबह भारतीय ट्रेड यूनियन्स केंद्र (सीटू) के महासचिव केएम तिवारी और जेपी शुक्ला के नेतृत्व में श्रमिकों ने अपर श्रमायुक्त कार्यालय पर डेरा डाल दिया। गुस्साए श्रमिकों ने हंगामा करते हुए मजदूरों का शोषण रोकने की मांग की। मजदूरों ने बढ़ती महंगाई को देखते हुए न्यूनतम वेतन 8500 रुपए प्रतिमाह करने, राशन प्रणाली प्रभावी तरीके से लागू करने, एक लाख वार्षिक आय वालों को बीपीएल कार्ड देने, आठ घंटे काम लेने, श्रमिकों को न्यूनतम वेतन, नियुक्ति पत्र, लीव कार्ड, ईएसआई, प्रोविडेंट फंड आदि लागू करने, स्थायी कामों में ठेकेदारों पर रोक लगाने, ठेका मजदूरों को उसी स्थान पर पक्का करने, महिला मजदूरों को समान काम का समान वेतन देने की मांग की।

इसके अलावा ट्रेड यूनियनों की गतिविधियों में पुलिस की दखल को रोकने की मांग भी की गई। सीटू ने श्रम मंत्री को संबोधित 15 सूत्रीय मांगपत्र अपर श्रमायुक्त को दिया। मांगपत्र लागू न करने पर दिसंबर में पूरे जिले में चक्का जाम और हड़ताल करने की चेतावनी दी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अपर श्रमायुक्त दफ्तर पर श्रमिकों का हंगामा