DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मिखाइल गोर्बाच्योफ ने बचाया था तीसरा विश्वयुद्ध

मिखाइल गोर्बाच्योफ ने बचाया था तीसरा विश्वयुद्ध

तत्कालीन सोवियत संघ के राष्ट्रपति मिखाइल गोर्बाच्योफ ने दावा किया है कि उन्होंने 1989 में एक प्रदर्शन को कुचलने के लिए सेना को आदेश न देकर तीसरा विश्वयुद्ध होने से बचा लिया। यह प्रदर्शन बर्लिन की दीवार गिरने से पहले हुआ था।

पश्चिम में गोर्बाच्योफ की सराहना की जाती है क्योंकि उन्होंने कट्टरपंथियों की सलाह को नकार दिया था। कट्टरपंथी चाहते थे कि पूर्वी ब्लाक के देशों में बढ़ रहीं अंसतोष की लहर को कुचल कर सोवियत संघ का भविष्य सुनिश्चित करना चाहिए। इसी अंसतोष के कारण 1989 में बर्लिन की दीवार ढ़ही थी।

घटना के 20 साल बाद 78 वर्षीय गोर्बाच्योफ ने कहा कि यदि क्रेमलिन ने प्रदर्शनों को कुचलने के लिए सेना का इस्तेमाल किया होता तो इसके परिणामस्वरूप तमाम घटनाएं होती और तीसरा विश्व युद्ध भी छिड़ सकता था।

द स्काटसमैन ने गोर्बाच्योफ के हवाले से कहा कि यदि सोवियत संघ चाहता तो उस तरह की 'दीवार का ढ़हना' कोई बात नहीं होती तथा जर्मनी एकीकरण नहीं होता। लेकिन यदि कुछ हो गया होता। बड़ी आपदा आ जाती या तीसरा विश्वयुद्ध होता।

उन्होंने कहा, मेरी नीतियां काफी ईमानदार और खुली हुई थी जिनका मकसद रक्त बहाना नहीं बल्कि लोकतंत्र का इस्तेमाल करना था। लेकिन मुझे इसकी भारी कीमत चुकानी पड़ी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मिखाइल गोर्बाच्योफ ने बचाया था तीसरा विश्वयुद्ध