DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चीनी मिलों को कच्ची चीनी का आयात रोकने की सलाह

उत्तर प्रदेश में पेराई सत्र 2009-10 के लिए घोषित राज्य परामर्शित गन्ना मूल्य (एसएपी) को बढ़ाए जाने की मांग को लेकर चल रहे गन्ना किसानों के आंदोलन के बीच राज्य सरकार ने चीनी मिलों से फिलहाल कच्ची चीनी के आयात को रोकने की सलाह दी है। प्रदेश के गन्ना आयुक्त सुधीर एम बोबडे ने बुधवार को बताया है कि स्थिति सामान्य हो जाने तक हमने फिलहाल चीनी मिलों को बाहर से कच्ची चीनी नहीं मंगाने की सलाह दी है।

उन्होंने कहा कि चीनी मिलों को फिलहाल कच्ची चीनी का आयात रोकने की सलाह कानून एवं व्यवस्था को बनाए रखने के लिए दी गई है। उल्लेखनीय है कि गन्ना मूल्य बढ़ाए जाने की मांग को लेकर आंदोलनरत भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं ने रविवार को मुजफ्फरनगर जिले के शामली रेलवे स्टेशन पर ब्राजील से आयात करके रेल मार्ग से लाई जा रही 26 हजार क्विंटल कच्ची चीनी को आग लगाने की धमकी दी थी।

यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने चेतावनी दी थी कि यदि कच्ची चीनी का आयात रोका नहीं गया तो किसान उसे जहां पाएंगे वहीं उसमें आग लगा देंगे। किसानों के आंदोलन के चलते कोटा से बाराबंकी लाई जा रही कच्ची चीनी की एक खेप उत्तर प्रदेश राजस्थान सीमा से ही वापस भेज दी गई थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चीनी मिलों को कच्ची चीनी का आयात रोकने की सलाह