DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चार मीनार के मैदान में होगी बढ़त की जंग

चार मीनार के मैदान में होगी बढ़त की जंग

ऐतिहासिक चार मिनार के शहर हैदराबाद में भारत और आस्ट्रेलिया की टीमें सात मैचों की सीरीज के गुरुवार को होने वाले पांचवें वनडे मैच में बढ़त हासिल करने की जंग में उतरेंगी। भारतीय टीम जहां एक तरफ पूरी तरह फिट हैं वहीं आस्ट्रेलियाई टीम एक के बाद खिलाड़ियों की चोटों के कारण चोटिल होती जा रही है लेकिन बावजूद इसके विश्व चैंपियन का हौंसला पूरी तरह बुलंद है और भारतीय टीम को उसके हौंसले से मुकाबला करने के लिए अपनी सारी ताकत झोंकनी होगी।

भारत और आस्ट्रेलिया की इस सीरीज के चार मैच हो चुके हैं और पांचवें मैच के लिए दोनों टीमें उस शहर में उतर रही हैं जो ऐतिहासिक चार मीनार के लिए जाना जाता है। यही नहीं, इस शहर का राजीव गांधी अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम रनों के लिए विख्यात है। यहां पर चैंपियंस लीग के मैचों में जमकर रनों की बरसात हुई थी और हर टीम इसी मैदान पर खेलना चाहती थी।

लाजमी है कि भारत और आस्ट्रेलिया के बीच पांचवें वनडे में भी रन संग्राम देखने को मिलेगा। दोनों टीमों के पास बेहतरीन बल्लेबाजों की कोई कमी नहीं है। इन बल्लेबाजों के बीच सभी निगाहें मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर पर लगी रहेंगी जो 17 हजार रन पूरे करने से मात्र सात रन दूर हैं और पूरी संभावना है कि वह यह कीर्तिमान यहां जरूर स्थापित कर देंगे।

मोहाली में आस्ट्रेलिया से चौथा वनडे हारने के बाद भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने कहा था कि सीरीज के शेष मैचों के लिए टीम को अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना होगा तभी वे सीरीज जीतने में कामयाब हो पाएंगे। यह हैरानी की बात है कि आस्ट्रेलिया के खिलाड़ी एक के बाद एक चोटिल होते जा रहे हैं लेकिन भारतीय टीम इसका फायदा उठाने की बजाय मोहाली में विपक्षी टीम को बराबरी दे बैठी।

आस्ट्रेलिया को पांचवां वनडे शुरू होने से पहले आलराउंडर मोइसेस हेनरिक्स के चोटिल होकर इस मैच से बाहर हो जाने से गहरा झटका लगा है, लेकिन धोनी से भलीभांति अवगत होंगे कि घायल शेर कहीं ज्यादा खतरनाक होता है। यह बात आस्ट्रेलिया ने मोहाली में साबित कर दी थी। सीरीज के दौरान आस्ट्रेलिया का यह पांचवां खिलाड़ी चोटिल हुआ है।

धोनी की इस समय सबसे बडी चिंता टीम की बल्लेबाजी है क्योंकि भारतीय गेंदबाजों और फील्डरों ने अपने प्रदर्शन में लगातार सुधार किया है। सीरीज में अब तक मध्यक्रम में खुद धोनी और युवराज सिंह ही मैच विजेता की भूमिका निभा पाए हैं। टॉप आर्डर में सचिन और वीरेंद्र सहवाग अच्छी शुरुआत तो कर रहे हैं लेकिन इसे बड़े स्कोर में न बदल पाना टीम के लिए परेशानी का सबब बना हुआ है।

मोहाली के पिछले मैच में एक भी बढ़िया साझेदारी न हो पाना भारत की हार का सबसे बड़ा कारण रहा था। अभी यह तय नहीं है कि चोटिल गौतम गंभीर इस मैच में खेल पाएंगे या नहीं। गर्दन में चोट के कारण वह मोहाली में नहीं खेल पाए थे। उनकी जगह उतरे युवा बल्लेबाज विराट कोहली इस सुनहरे मौके का फायदा उठाने से चूक गए थे।

ओपनिंग में सहवाग को आक्रमकता के साथ धैर्य दिखाने की भी जरूरत है। उन्हें यह देखना होगा कि यह 50 ओवर का मैच है 20-20 का नहीं। पिछले दो मैचों में सचिन ने क्रमशः 32 और 40 रन बनाए हैं लेकिन बड़ा स्कोर खड़ा कर पाने में वह भी विफल रहे हैं। टॉप आर्डर की यही नाकामयाबी भारत को मोहाली में भारी पड़ी थी। उप्पल स्थित राजीव गांधी स्टेडियम की पिच रनों से भरपूर मानी जा रही है और इस पर निश्चित ही एक बड़ा स्कोर देखने को मिलेगा।
भारत के दिग्गज बल्लेबाजों पर खासी जिम्मेदारी रहेगी कि पहले बल्लेबाजी करने की स्थिति में उन्हें बड़ा स्कोर खड़ा करना पड़ेगा और यदि उन्हें दूसरी पारी में खेलना पडा तो लक्ष्य का पीछा करते हुए उन्हें टीम को अच्छी शुरुआत और बड़ी साझेदारी देनी होगी।

आस्ट्रेलिया ने मोहाली में हर लिहाज से भारत के मुकाबले बेहतरीन प्रदर्शन किया था और अपने 250 के स्कोर का बखूबी बचाव किया था। कप्तान रिकी पोंटिंग शानदार फार्म में चल रहे हैं और शेन वाटसन तथा माइक हसी ने भी अब तक अच्छे स्कोर खड़े किए हैं। कैमरून व्हाइट का फार्म में लौटना आस्ट्रेलिया के लिए एक अच्छी खबर है। ये चारों बल्लेबाज लय में रहने पर बड़ा स्कोर खड़ा करने में पूरी तरह सक्षम हैं।

भारतीय गेंदबाजी आक्रमण में परिवर्तन की कोई संभावना नजर आती है। ईशांत शर्मा, आशीष नेहरा और प्रवीण कुमार पर धोनी का पूरा विश्वास दिखाई दे रहा है और स्पिन क्षेत्र में हरभजन सिंह तथा रवींद्र जडेजा अपनी जिम्मेदारी का बोझ पूरी तरह उठा रहे हैं।

दूसरी तरफ, आस्ट्रेलिया के गेंदबाज लगातार चोटिल होकर सीरीज से बाहर हो रहे हैं लेकिन उसकी गेंदबाजी की धार कुंद होने का नाम नहीं ले रही है। ब्रेट ली बाहर हो चुके हैं, पीटर सिडल बाहर हो चुके हैं लेकिन मोहाली में वाटसन और डग बोलिंगर ने तीन-तीन विकेट लेकर भारतीय बल्लेबाजी की कमर तोड़ दी थी।

हैदराबाद में रनों से भरपूर पिच में दोनों टीमों के गेंदबाजों की कड़ी परीक्षा होगी। इस मैदान पर भारत का रिकार्ड कोई बहुत अच्छा नहीं है। उसने यहां खेले दोनों मैच दक्षिण अफ्रीका और आस्ट्रेलिया से हारे हैं, लेकिन किसी भी मैदान में कोई भी नया मैच नए सिरे से शुरू होता है और भारतीय टीम भी मोहाली की पराजय को पीछे छोड़कर चार मीनार के शहर में नई शुरुआत के इरादे से उतरेगी।

दोनों टीमें इस प्रकार हैं-
भारतः महेंद्र सिंह धोनी, गौतम गंभीर, सचिन तेंदुलकर, वीरेंद्र सहवाग, युवराज सिंह, विराट कोहली, प्रवीण कुमार, अमित मिश्रा, आशीष नेहरा, सुरेश रैना, ईशांत शर्मा, रवींद्र जडेजा, मुनफ पटेल, सुदीप त्यागी और हरभजन सिंह।

आस्ट्रेलियाः रिकी पोंटिंग, माइकल हसी, शान मार्श, शेन वाटसन, ग्राहम मैनू, कैमरून व्हाइट, नाथन हारित्ज, जेम्स होप्स, मिशेल जानसन, डग बोलिंगर, जॉन हालैंड, बेन हिलफेनहास और एडम वोजेस।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चार मीनार के मैदान में होगी बढ़त की जंग