DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तालिबान व अलकायदा का सर उठाना वास्तविक चुनौतीः निरुपमा राव

तालिबान और अल कायदा के फिर से सर उठाने को वास्तविक चुनौती करार देते हुए भारत ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से कहा कि अपनी जमीन पर आतंकवादी समूहों से निपटने के मुद्दे पर जताई गई प्रतिबद्धता का पालन कराने के लिए उसे पाकिस्तान पर प्रभावी दबाव डालना चाहिए।

भारत ने साथ ही कहा कि यदि अंतरराष्ट्रीय समुदाय ऐसा करने में विफल रहा तो क्षेत्र हिंसा के दुष्चक्र में फंस सकता है। दक्षिण एशिया 2020 पर एक सम्मेलन को संबोधित करते हुए विदेश सचिव निरूपमा राव ने कहा क्षेत्रीय सुरक्षा के लिए आतंकवाद वास्तविक चुनौती बना हुआ है, तालिबान और अल कायदा का फिर से सर उठाना वास्तविक खतरा है। इस समय जरूरत है कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय अफगानिस्तान को अपनी सहायता पर पुन: प्रतिबद्धता जताए।

राव ने कहा इस मुद्दे पर लगातार आम सहमति बन रही है कि अफगानिस्तान में आतंकवादी गतिविधियों का विवादास्पद इलाकों में उपलब्ध समर्थन से संबंध है। अपनी जमीन से संचालित आतंकवादी समूहों से निपटने में पाकिस्तान से उसकी प्रतिबद्धता का पालन कराने के लिए प्रभावी दबाव बनाए जाने की अंतरराष्ट्रीय समुदाय से अपील करते हुए।

उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं हुआ तो अफगानिस्तान में पिछले आठ साल में जो मेहनत की गई है उस पर पानी फिर जाएगा। उन्होंने साथ ही कहा कि यदि अंतरराष्ट्रीय समुदाय पाकिस्तान पर दबाव नहीं बनाता है तो इससे क्षेत्र के हिंसा के दुष्चक्र में फंसने का खतरा है।

निरूपमा राव ने दक्षिणी वजीरिस्तान में तालिबान के गढ़ से भारत निर्मित हथियार बरामद किए जाने के पाकिस्तान के दावों को भी पूरी तरह यह कहते हुए खारिज कर दिया कि ऐसी रिपोर्टों का कोई तथ्यात्मक आधार नहीं है।

पड़ोसी देश में हाल की हिंसक घटनाओं को भी राव ने ऐसे लोगों के लिए आंखें खोलने  वाला करार दिया, जो आतंकवादी तत्वों को प्रश्रय देते हैं या उनके साथ सौदेबाजी करते हैं। उन्होंने कहा कि ये घटनाएं इस बात की याद दिलाती हैं कि आतंकवादियों को पालने पोसने वाले भी इसके परिणामों से बचे नहीं रह सकते।

उन्होंने कहा कि भारत ने कई बार पाकिस्तान को यह संदेश दिया है कि वह उसके साथ सार्थक वार्ता चाहता है, लेकिन यह तब तक संभव नहीं है जब तक कि वह अपने यहां आतंकवादी तत्वों से नहीं निपटता और उन्हें भारत विरोधी गतिविधियों से रोकने की दिशा में काम नहीं करता।

विदेश सचिव ने कहा कि हमारी स्थिति एकदम साफ है। स्थिर और शांतिपूर्ण पाकिस्तान चाहते हैं और हम लगातार इस दिशा में काम करते रहेंगे। राव ने कहा कि शांतिपूर्ण और स्थिर पड़ोस देश के प्राथमिक लक्ष्यों में से एक है। अन्य दक्षिण एशियाई देशों के साथ भारत के संबंधों के विस्तार में जाते हुए उन्होंने कहा कि अपने पड़ोसी देशों के विकास के लिए सहायता मुहैया कराने में भारत हमेशा आगे रहा है और उनसे हर स्तर पर बेहतर संवाद में विश्वास रखता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:तालिबान व अलकायदा का सर उठाना वास्तविक चुनौतीः निरुपमा राव