DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कुंभ मेले के लिए अतिरिक्त भूमि

कुंभ मेले के लिये हरिद्वार में नौ हैक्टेयर अतिरिक्त भूमि तैयार की गयी है। हरिद्वार से नजीबाबाद जाने वाली सड़क के किनारे वन क्षेत्र में नौ हैक्टेयर नयी भूमि को समतल कर मेला लैंड के तौर पर विकसित किया जा रहा है।

कुंभ मेलाधिकारी आनंद वर्धन और मेला डी आई जी आलोक शर्मा ने अखाडों को शाही स्नान के आवागमन मार्ग और अखाडों के शिविरों के लिये विकसित किये जा रहे मेला क्षेत्र का दौरा किया।

अखाड़ों के हरकी पौड़ी आगमन मार्ग के बीच बने सार्वजनिक शौचालय पर अखांडों ने आपत्ति उठाई। अखाडा परिषद के महामंत्री स्वामी हरिगिरी के अनुसार अखांडों के स्नान मार्ग में सबसे आगे अखाड़ों के देवता कूच करेंगे और ऐसे में जब एक सर्वोच्च पवित्र पर्व पर देवताओं को लेकर अखाडे निकलेंगे तो शौचालय का मध्य मार्ग में होना अनुचित है।

इस समस्या का समाधान निकालते हुए मेला डी आई जी ने कहा कि शाही स्नान के समय सार्वजनिक शौचालय को सफेद चादरों से ढंक कर बंद कर दिया जायेगा। इस बार प्रशासन ने कुंभ मेले को शहर से पूरी तरह बाहर कर दिया है। कुल 185.5 हैक्टेयर भूमि पर गौरी शंकर नगर नीलधारा नगर और महामंडलेश्वर नगर बसाया जा रहा है।

कुंभ मेला के शहरी क्षेत्रों को मेला प्रशासन ने पूरी तरह अपने प्रयोग के लिये सुरक्षित रखा है। शाही स्नान के समय अखाड़ों की गाड़ियों में एक दूसरे को पछाडने की होड़ से बचने के लिये गाडियों को प्रशासन द्वारा क्रम संख्या दी जायेगी। मेला डी आई जी आलोक शर्मा ने कहा गाड़ियों का क्रमवार प्रवेश ही स्वीकत किया जायेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कुंभ मेले के लिए अतिरिक्त भूमि