DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो टूक (04 नवंबर, 2009)

डंपर शब्द एक लेकिन मायने अनेक। एनसीआर में ये मौत के हरकारे हैं तो दिल्ली में जाम के सबब। नोएडा-ग्रेटर नोएडा में एक माह के दौरान ही ये दो दर्जन लोगों की जान ले चुके हैं। अब प्रशासन की नींद खुली है। इन्हें आबादी वाले इलाकों से दूर रखने की कवायद शुरू हुई है।

फरीदाबाद और गुड़गांव में इनके आने-जाने का समय तय है, पर ये जा कहीं भी सकते हैं। यहां भी आबादी वाले इलाकों से इन्हें दूर रखना चाहिए। दिल्ली को भी आगे-पीछे इनके प्रवेश पर रोक लगानी होगी। दिल्ली के लिए जाम बड़ी समस्या है और कॉमनवेल्थ गेम्स के समय अपनी सड़कों को इन डंपरों के रहमो-करम पर नहीं छोड़ा जा सकता।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दो टूक (04 नवंबर, 2009)