DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छात्रों का सहारा बनी ई-लर्निंग

सीबीएसई बोर्ड परीक्षा की तैयारी में जुटे छात्रों के लिए ई-लर्निंग एक बेहतर विकल्प बन रही है। विषय संबंधित नोट्स, प्रश्नों के प्रकार को समझने के लिए छात्र ई-लर्निंग का सहारा ले रहे हैं। बोर्ड परीक्षा की आहट होते ही छात्रों के नेट सफरिंग का दौर शुरु हो गया है। कई संस्थाएं बेबसाइट के जरिए छात्रों को बोर्ड परीक्षा की तैयारी करा रही हैं। 

सीबीएसई बोर्ड द्वारा परीक्षा की तिथि घोषित होते ही परीक्षार्थी परीक्षा की तैयारी में जुट गए हैं। परीक्षा को ध्यान में रखकर स्कूलों में स्पेशल क्लास लगाने के साथ एग्जाम नोट्स मुहैया कराने की प्रक्रिया जोरों पर है। इसके बावजूद छात्र ई-लर्निग को तवज्जो दे रहे हैं।

डिवाइन पब्लिक स्कूल के प्रिंसिपल और हरियाणा प्रोग्रेस स्कूल कांफ्रेंस के प्रेसिडेंट एस.एस.गुसांई कहते हैं कि प्रतिस्पर्धा की इस दौड़ में विद्यार्थी खुद को किसी से पीछे नहीं देखना चाहते हैं। उनके इन्हीं विचारों से ई-लर्निंग को बढ़ावा मिल रहा है। विद्यार्थी स्कूल की पढ़ाई के साथ-साथ परीक्षा की तैयारी के लिए ई-लर्निंग का सहारा ले रहे हैं। उन्होंने बताया कि कई संस्थाएं वेबसाइट के जरिए विद्यार्थियों को परीक्षा की तैयारी करवाती हैं। इनमें सीबीएसई बोर्ड, गुरुकुल वेबसाइट के अलावा कई अन्य वेबसाइट्स शामिल हैं। सीबीएसई बोर्ड जनवरी, फरवरी से बोर्ड परीक्षार्थियों के लिए ई-लर्निंग सुविधा शुरु कर देता है, लेकिन कई वेबसाइट्स पर यह सुविधा अभी से चल रही है।

सेक्टर-16 ग्रेंड कोलंबस के डायरेक्टर सुरेश चंद का कहना है कि बोर्ड परीक्षा के मद्देनजर छात्रों को शॉर्ट टाइप आंसर, लेंथी आंसर की जानकारी स्कूलों में दी जाती है। इसके साथ उनको पढ़ाई के टिप्स भी बताए जाते हैं। बकायदा उन्हें असाइंमेंट दिया जाता है, लेकिन इसके बाद भी वे ई-लर्निंग को महत्व देते हैं। यह छात्रों की परीक्षा के प्रति गंभीरता को दर्शाती है। छात्रों में ई-लर्निंग का खासा क्रेज देखने को मिलता है। यह क्रेज परीक्षा के दिन नजदीक आते-आते और बढ़ जाता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:छात्रों का सहारा बनी ई-लर्निंग