DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हुड्डा सरकार ने किया गन्ने के मूल्य में इजाफा

हरियाणा के मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ने मंगलवार को हरियाणा के किसानों को वर्ष 2009-10 के लिए गन्ने का अब तक का सर्वाधिक मूल्य देने की घोषणा की है। यह अगेती किस्मों के लिए 185 रुपये प्रति क्विंटल, मध्यम किस्मों के लिए 180 रुपये प्रति क्विंटल तथा पिछेती किस्मों के लिए 175 रुपये प्रति क्विंटल होगा। उन्होंने वर्ष 2010-11 के लिए गन्ने के मूल्य में और अधिक वृद्धि करने की भी घोषणा की और यह मूल्य अगेती, मध्यम एवं पिछेती किस्मों के लिए क्रमश: 210 रुपये, 205 रुपये तथा 200 रुपये प्रति क्विंटल होगा।

मुख्यमंत्री, जो यहां गन्ना नियंत्रण बोर्ड की एक बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे, ने कहा कि 2008-09 की तुलना में वर्ष 2009-10 के लिए गन्ने के मूल्य में 15 रुपये प्रति क्विंटल की वृद्धि की गई है। इसी प्रकार, वर्ष 2010-11 के लिए गन्ने का मूल्य वर्ष 2009-10 की तुलना में 25 रुपये प्रति क्विंटल अधिक है।

हुड्डा ने कहा कि किसानों को और अधिक गन्नों की पैदावार करने के लिए प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से ही पिराई मौसम 2010-11 के लिए गन्नों का मूल्य पहले ही निर्धारित करने का निर्णय लिया गया है।
हुड्डा ने कहा कि राज्य सरकार ने सदा कृषक समुदाय के हितों की रक्षा की है तथा उन्हें उनके उत्पाद का लाभदायक मूल्य दिया गया है। उन्होंने प्रदेश की चीनी मिलों से भी  किसानों के लिए लाभदायक मूल्य सुनिश्चित करने के बारे विचार करने का आग्रह किया।

बैठक में बताया गया कि निजी क्षेत्र की चीनी मिलों सहित सभी चीनी मिलों ने वर्ष 2008-09 के दौरान उन द्वारा खरीदे गये गन्ने के लिए किसानों को 414.87 करोड़ रुपये से अधिक का भुगतान किया है। इस राशि में सहकारी चीनी मिलों द्वारा अदा की गई 215.85 करोड़ रुपये से अधिक की राशि शामिल है। किसानों को यह अदायगी किये जाने के उपरान्त प्रदेश की चीनी मिलों की ओर कोई भी राशि बकाया नहीं है।

इस सत्र में निजी चीनी मिलें 25 नवम्बर से तथा सहकारी क्षेत्र की मिलें 25 नवम्बर के बाद गन्ने की पिराई का कार्य शुरू करेंगी। बैठक में मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव छत्तर सिंह, वित्त विभाग के वित्तायुक्त एवं प्रधान सचिव अजीत एम शरण, कृषि विभाग के वित्तायुक्त एवं प्रधान सचिव रोशन लाल, सहकारिता विभाग के वित्तायुक्त एवं प्रधान सचिव एसएस ढिल्लों, सहकारी समितियों के रजिस्ट्रार शिव रमन गौड़, हैफेड के प्रबंध निदेशक सुधीर राजपाल, सहकारी चीनी मिल प्रसंघ, हरियाणा के प्रबंध निदेशक जेपी कौशिक, गन्ना आयुक्त अनिल मलिक, निजी चीनी मिलों के प्रतिनिधि तथा बोर्ड के अन्य सदस्य उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हुड्डा सरकार ने किया गन्ने के मूल्य में इजाफा