DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सिलाई मशीन घोटाले में आठ एबीएसए निलंबित

स्कूलों में लड़कियों को सिलाई-कढ़ाई सिखाने के लिए सिलाई मशीनें खरीदने के घोटाले में बाराबंकी के आठ सहायक बेसिक शिक्षा अधिकारियों को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। बाराबंकी के बेसिक शिक्षा अधिकारी के खिलाफ चाजर्शीट मांगी गई है। शासन ने डीएम को निर्देश दिए हैं कि वह घोटाले में शामिल ग्राम प्रधानों के खिलाफ कार्रवाई करें। स्कूलों के हेडमास्टरों के खिलाफ कार्रवाई के लिए बीएसए को अधिकृत किया गया है।

‘हिन्दुस्तान’ ने बीती 14 सितम्बर को खबर छापी थी-‘घोटालेबाजों ने सिलाई मशीन की उधेड़ दी बखिया।’ इस खबर पर सभी के लिए शिक्षा परियोजना ने एक जांच दल बाराबंकी भेजा था। लेकिन घोटालेबाजों ने कई स्कूलों में रातों-रात सिलाई मशीनें बदलवा दीं। यह खबर भी छपी। तब शासन के निर्देश पर एक उच्चस्तरीय जांच दल ने बाराबंकी के स्कूलों में दोबारा जांच की। जांच रिपोर्ट में ‘हिन्दुस्तान’ में छपी खबरों के तथ्यों की पुष्टि हुई।

रिपोर्ट के आधार पर शासन ने घपले में फंसे सभी सहायक बेसिक शिक्षा अधिकारियों को निलंबित करने के निर्देश दिए हैं। बेसिक शिक्षा विभाग ने त्वरित कार्रवाई करते हुए हैदरगढ़ के एबीएसए अजय विक्रम सिंह, त्रिवेदीगंज के एबीएसए एससी त्रिपाठी, फतेहपुर की एबीएसए इंदिरा देवी, देवां के एबीएसए राजश्री रस्तोगी व राजकिशन यादव, सूरतगंज के एबीएसए पन्नालाल व नगर शिक्षा अधिकारी अजय द्विवेदी के निलंबन के आदेश जारी कर दिए। शासन ने बाराबंकी के बीएसए प्रवीण मणि त्रिपाठी के खिलाफ चाजर्शीट तलब की है।

घोटालेबाजों ने यूं उधेड़ी थी बखिया
शासन ने मशीन खरीदने के लिए 10-10 हजार रुपए अधिकृत किए थे। लेकिन इसकी जगह ढ़ाई-तीन हजार रुपए की साधारण मशीनें खरीदी गईं। जबकि बिल वाऊचर दस-दस हजार रुपए के लगाए गए। स्कूलों को ये मशीनें सहायक बेसिक शिक्षा अधिकारियों ने मुहैया कराई थीं। चेक पर ग्राम प्रधान और हेडमास्टर दोनों के संयुक्त दस्तखत थे।

अब घोटालेबाजों की बारी
ग्राम प्रधान व हेडमास्टरों के बयान के आधार पर एबीएसए के खिलाफ कार्रवाई हुई। लेकिन चूंकि चेक पर ग्राम प्रधान और हेडमास्टर दोनों के संयुक्त दस्तखत थे, इसलिए दोनों के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं। ग्राम प्रधानों के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश जिलाधिकारी को दिए गए हैं। जबकि हेडमास्टर के खिलाफ बीएसए कार्रवाई करेंगे। सूत्र बताते हैं कि फर्जी बिल लगाकर धोखाधड़ी के आरोप में इनके खिलाफ एफआईआर भी दर्ज की जा सकती है।

जाँच ने खारिज किए एबीएसए के दावे
हिन्दुस्तान में इस घोटाले की खबर छपने के बाद बाराबंकी के सहायक बेसिक शिक्षा अधिकारियों ने दावा किया था कि उन्हें फंसाया जा रहा है। इन लोगों ने अपने सौ से ज्यादा समर्थकों और ग्राम प्रधानों के साथ ‘हिन्दुस्तान’ के लखनऊ कार्यालय पहुँच कर यह दावा किया था। लेकिन जांच रिपोर्ट ने उनके दावे को गलत और ‘हिन्दुस्तान’ की खबर को सही साबित कर दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सिलाई मशीन घोटाले में आठ एबीएसए निलंबित