DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डम्पर से युवक की मौत के बाद पथराव, आगजनी

गोमती नगर में डम्पर ने एक और युवक को मौत की नींद सुला दिया। इस बार मकदूमपुर पुलिस चौकी के पास एलडीए विस्तार योजना के निर्माण में लगे डम्पर ने बाइक से जा रहे किसान तनवीर अहमद (35) को टक्कर मार दी। तनवीर बाइक के साथ डम्पर के अगले हिस्से में फंस कर घिसटता चला गया। फिर पहिया उसके ऊपर चढ़ गया और मौके पर ही उसकी मौत हो गई। इस हादसे की खबर मिलते ही आस पास गांव से आए सैकड़ों लोगों ने पथराव कर डम्पर तोड़ डाला। लोगों ने चंद कदम दूर एलडीए के लिए काम कर रही अवध कंस्ट्रक्शन कम्पनी के मिक्सर प्लांट में आग लगा दी और आस-पास खड़े छह डम्पर, लेबलर व अन्य वाहनों को भी आग के हवाले कर दिया।

पल भर में ही आस-पास का इलाका आग की लपटों से घिर गया। पुलिस के पहुँचने से पहले ही ग्रामीणों ने इस इलाके को चारों तरफ से घेर रखा था। गोमती नगर पुलिस ग्रामीणों का उग्र रूप देख सिहर उठी और अधिकारियों से और फोर्स भेजने को कहा। इसके बाद ही एएसपी परेश पाण्डेय पीएसी जवानों व अन्य थानों की फोर्स लेकर पहुंचे। कई दमकल भी बुला ली गईं। पुलिस बल को देखते ही ग्रामीणों ने चारों तरफ से पथराव शुरू कर दिया। पहले पुलिस उन्हें समझाती रही, लेकिन जब मकदूमपुर, मलेशेमऊ, जोराखनपुरवा, खरगापुर, बोधनपुरवा के ग्रामीण भी बाइक से वहाँ पहुँच गए, तो पुलिस ने रबर बुलेट से फायरिंग की। आँसू गैस के गोले दागे। इसके बाद भगदड़ मच गई और ग्रामीण अपनी मोटरसाइकिलें छोड़ कर भाग निकले।

भीड़ हटने के बाद मलेशेमऊ निवासी तनवीर के शव को पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया। आस-पास पीएसी जवानों का घेरा बनवाकर पुलिस ने घटनास्थल पर छूटी बाइक ट्रॉली पर लदवाकर गोमती नगर थाने भेज दी। उधर दर्जनों दमकलों की मदद से छह घंटे बाद आग पूरी तरह से बुझाई जा सकी। एहतियात के तौर पर पीएसी तैनात रखी गई है। इस मामले में एलडीए ठेकेदार अहमद, इमरान अली, एक कर्मचारी जमील को हिरासत में लिया गया है।

ऐसे हुआ हादसा
प्रत्यक्षदर्शी फैय्याज ने बताया कि तनवीर हीरो होंडा बाइक से गोमती नगर की ओर जा रहा था। इसी दौरान सामने से आ रहे डम्पर के चालक ने अपना वाहन अचानक दाहिनी ओर मोड़ दिया। तनवीर व उसकी बाइक डम्पर के अगले हिस्से में फंस कर खड्ड की तरफ घिसटती चली गई। जब तक चालक गाड़ी को नियंत्रित करता, तनवीर पहिए के नीचे आ चुका था।

पहले गंभीर होती पुलिस, तो हादसा बड़ा न होता
सुबह करीब 10 बजे हुई इस घटना की खबर मिलने पर गोमती नगर थाने से एक जीप वहां पहुंची। इस जीप पर एक दरोगा व चार सिपाही ही थे। जबकि उन्हें इस बात की सूचना दी जा चुकी थी कि लोगों ने आगजनी शुरू कर दी है। इसके बावजूद भी चंद पुलिसकर्मी ही वहां पहुंचे। ये पुलिस वाले ग्रामीणों के गुस्से के आगे मूकदर्शक ही बने रहे। गांवों से बाइक पर तीन-तीन युवक सवार होकर वहां पहुंचते जा रहे थे।

पुलिस वालों की लाचारी का फायदा उठाते हुए ग्रामीणों ने पूरे इलाके को घेरकर वाहनों में आग लगानी शुरू कर दी और पथराव करते हुए मिक्सर प्लांट तक पहुंच गए। इस प्लांट के सामने सड़क के दूसरी ओर एलडीए के अस्थाई कार्यालय में मौजूद अफसर वहां से भाग निकले। प्लांट पर काम कर रहे कर्मचारी व मजदूर भी भाग निकले। ग्रामीणों का विरोध करने वाला वहां कोई नहीं था। लिहाजा उनका उपद्रव बढ़ता गया। करीब आधे घंटे बाद जब भारी पुलिस व पीएसी के जवान वहां पहुंचे, तब ग्रामीण वहां से खदेड़े जा सके।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:डम्पर से युवक की मौत के बाद पथराव, आगजनी