DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कमजोर तबके के वोटरों को सुरक्षा मिलेः मुख्य निर्वाचन अधिकारी

मुख्य निर्वाचन अधिकारी उमेश सिन्हा ने उपचुनाव की दृष्टि से अति संवेदनशील माने जा रहे रारी, इसौली व कोलअसला विधानसभा क्षेत्रों के सभी मतदान केंद्रों पर यथासंभव माइक्रो प्रेक्षक तैनात करने के निर्देश दिए हैं, जो सीधे चुनाव प्रेक्षक को रिपोर्ट करेंगे। उन्होंने कहा कि मतदान के दिन माफिया और अपराधियों की ट्रैकिंग की जाए, ताकि वे किसी भी रूप में मतदान को प्रभावित करने में सफल न होने पाएं। उन्होंने कहा कि निष्पक्ष और स्वतंत्र उपचुनाव के लिए पुख्ता बन्दोबस्त किए जाएं।

श्री सिन्हा मंगलवार को सुलतानपुर, जौनपुर तथा वाराणसी में संबंधित विधानसभा क्षेत्रों की उपचुनाव तैयारियों की समीक्षा कर रहे थे। उनके साथ आईजी (कानून-व्यवस्था) एपी माहेश्वरी तथा विशेष कार्याधिकारी अतीक अहमद भी थे। प्राप्त जानकारी के मुताबिक, उन्होंने निर्देश दिए कि अनुसूचित जातियों-जनजातियों सहित कमजोर तबके के लोगों में मतदान के प्रति विश्वास बढ़ाने के लिए केंद्रीय बलों तथा स्थानीय पुलिस की मोबाइल गश्त कराई जाए, ताकि कोई भी बाहुबली या अपराधी प्रवृत्ति का व्यक्ति उन्हें डरा-धमका न सके। उन्होंने कहा कि संवेदनशील मतदान केंद्रों पर अतिरिक्त केंद्रीय बल और राज्य पुलिस तैनात की जाए।

कई राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों ने मुख्य निर्वाचन अधिकारी से यह शिकायत की, कि मंत्री और उनके विभागीय अधिकारी-कर्मचारी आचार संहिता का उल्लंघन करते हुए घूम रहे हैं और उनके विरुद्ध कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। श्री सिन्हा ने अधिकारियों को तत्काल कदम उठाने के निर्देश दिए।

सुल्‍तानपुर में मुख्य निर्वाचन अधिकारी से शिकायत की गई, कि इसौली विधानसभा क्षेत्र से आयोग द्वारा हटाए गए दोनों थानेदारों को पुलिस लाइन में रखा गया है। जबकि वहाँ से उपचुनाव के लिए पुलिस की ड्यूटी लगती है। इस पर दोनों थानेदारों को फैजाबाद डीआईजी से सम्बद्ध करने के निर्देश जारी किए गए। मुख्य निर्वाचन अधिकारी बुधवार को शाहजहाँपुर में पुवायां विधानसभा क्षेत्र में उपचुनाव तैयारियों की समीक्षा करेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कमजोर तबके के वोटरों को सुरक्षा मिलेः मुख्य निर्वाचन अधिकारी