DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जमीन को अपने नाम करने में जुटी ग्रेनो अथॉरिटी

कॉलोनाइजर व भूमाफियाओं पर लगाम लगाने के लिए ग्रेनो अथॉरिटी किसानों के नाम खसरा-खतौनी से हटाने में जुटी है। अथॉरिटी किसानों को उनकी जमीन से बेदखल कर जमीन को अपने नाम के मकसद से अपना नाम कागजों में दर्ज कराने में लग गई है। इससे अथॉरिटी को दो फायदे होंगे एक तो किसान जमीन से बेदखल हो जाएगा, दूसरा कॉलोनाइजर अवैध कॉलोनी काटकर बेच नहीं सकेंगे।

अब भूमाफिया जमीन में किसी भी प्रकार की गड़बड़ी नहीं कर सकेंगे। अथॉरिटी की अपनी जमीन सुरक्षित हो जाएगी। यदि कोई अथॉरिटी की जमीन को कब्जा भी लेता है, तो उस जमीन पर बुल्डोजर चलाकर अथॉरिटी जमीन कब्जा वापस ले लेगी। एक अभियान चलाकर अथॉरिटी उन 51 गांवों की जमीन को तो अथॉरिटी ने राजस्व अभिलेखों में अपना नाम दर्ज करा लिया है, जिन गांवों के किसानों को जमीन का पूरा मुआवजा दे दिया गया है। इसके अलावा 16 गांवों की जमीन को अथॉरिटी अपने नाम कराने की कार्रवाई में लगी है। फेस-1 में अथॉरिटी अधिसूचित क्षेत्र के 124 गांवों की जमीन अधिग्रहण करेगी। जिसमें से 67 गावों के किसानों की जमीन अथॉरिटी ने अपने नाम करा ली है।


अवैध कॉलोनियों पर लग सकेगी रोक-
अथॉरिटी के अधिसूचित गांवों में कॉलोनाइजरों द्वारा काटी जा रही अवैध कॉलोनियों पर पूर्ण प्रतिबंद लग जाएगा। जमीन न तो किसान के नाम रहेगी न ही कॉलोनाइजर के। ऐसे में कॉलोनी में प्लॉट खरीदने वालों की रजिस्ट्री कैसे होगी।

शहर में हैं अवैध कालोनियां-
शहर में करीब पचास कॉलोनी अवैध घोषित हैं, जिनमें फेस-2 क्षेत्र में करीब 28 कॉलोनी शामिल हैं। इन कॉलोनियों ने वर्ल्ड कलास सिटी का नक्शा ही बिगाड़ दिया है। अथॉरिटी के अधिसूचित क्षेत्र में अभी कुलेसरा, सूरजपुर, कासना, देवला, तिलपता, हल्द्वोनी, छपरौला, हेबतपुर इटेहरा, चंकशाहबेरी, चिपियाना खुर्द उर्फ तिगरी, युसुफपुर चकशाहबेरी, बिसरख आदि गांवों में कॉलोनी काटी जा रही हैं।


ढाई सौ हैक्टेयर जमीन पर है कब्जा
अथॉरिटी की करीब ढाई सौ हैक्टैयर जमीन पर कॉलोनाइजरों व भूमाफियाओं ने कब्जा कर रखा है। दो सौ लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई जा चुकी है। अथॉरिटी के अधिसूचित क्षेत्र में अवैध कॉलोनी काटने वाले कॉलोनाइजरों व भूमाफियाओं के खिलाफ विजयनगर, बिसरख, दादरी, सूरजपुर, कासना सहित अन्य कोतवाली में अथॉरिटी की ओर से रिपोर्ट दर्ज करा दी गई है। आधा दजर्न लोगों को गिरफ्तार भी किया जा चुका है।


क्या कहते हैं, डीसीईओ-
डीसीईओ पीसी गुप्ता का कहना है कि कॉलोनाइजरों व भूमाफियाओं पर शिंकजा कसा जा रहा है। रिपोर्ट दर्ज कराने के अलावा अब अथॉरिटी अधिसूचित क्षेत्र के गांवों की जमीन को अपने नाम करा रही है। जमीन अथॉरिटी के नाम हो जाएगी तो कॉलोनियों पर रोक लग जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जमीन को अपने नाम करने में जुटी ग्रेनो अथॉरिटी