DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

संगीनों के साए में केन कमिश्नर ने ली मीटिंग

गन्ना आंदोलन के मद्देनजर केन कमिश्नर सुधीर एम बोगडे मंगलवार को अचानक मेरठ पहुंच गए। केन कमिश्नर ने यहां मंडलायुक्त और डीएम के साथ लॉ एंड ऑर्डर की स्थिति पर करीब दो घंटे तक चर्चा की। केन कमिश्नर दोपहर करीब डेढ़ बजे मेरठ पहुंचे और मंडल के सभी जिलों के डीसीओ के साथ विभिन्न पहलुओं पर देर रात तक मंथन किया। मीटिंग के दौरान किसानों के विरोध प्रदर्शन को देखते हुए सर्किट हाउस को छावनी में तब्दील कर दिया था। एसपी सिटी, एडीएम सिटी, सिटी मजिस्ट्रेट, सीओ सिविल लाइन कई थानों की पुलिस के साथ दिन भर सर्किट हाउस में ही डेरा डाले रहे।

वेस्ट में सुलग रही गन्ने की आग से शासन भी हिल गया है। पांच तारीख को मेरठ कमिश्नरी पर रालोद की महापंचायत को लेकर खुफिया विभाग और प्रशासनिक तंत्र सक्रिय हो गया है। किसानों के आक्रोश का यह लावा कहीं लॉ एंड ऑर्डर के लिए खतरा न बन जाए यह अंदेशा सरकार की भी नींद उड़ाए हुए है। मंगलवार को प्रदेश के केन कमिश्नर हालात का जायजा लेने के लिए अचानक मेरठ पहुंच गए।

उनके कार्यक्रम को बेहद गोपनीय रखा गया लेकिन कहीं से किसान नेता विनोद कलंजरी को भनक लग गई तो उन्होंने रालोद और भाकियू नेताओं को इसकी जानकारी दे दी। केन कमिश्नर के आने के ठीक पंद्रह मिनट बाद रालोद नेता डा. राजकुमार सांगवान और इंद्रपाल सिंह जिंजोखर पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ सर्किट हाउस पहुंच गए ओर केन कमिश्नर का घेराव कर दिया।

इसकी सूचना मिलते ही पुलिस और प्रशासन में हड़कंप मच गया। एसपी सिटी तत्काल सीओ सिविल लाइन और कई थानों के पुलिस के साथ सर्किट हाउस पहुंच गए, लेकिन किसानों के आक्रोश को देखते हुए वह मूकदर्शक ही बने रहे। केन कमिश्नर को लावड़ क्षेत्र के मीठेपुर गांव में जाकर किसानों से बातचीत करनी थी, लेकिन किसानों के विरोध को देखते हुए वह हिम्मत नहीं जुटा सके और कार्यक्रम कैंसिल कर दिया। समाचार लिखे जाने तक भारी पुलिस बल की मौजूदगी में सर्किट हाउस में मीटिंग चल रही थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:संगीनों के साए में केन कमिश्नर ने ली मीटिंग