DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

न आतंकवाद बर्दाश्त और न मदरसा बोर्डः जमीयत-उलेमा-ए-हिन्द

आतंकवाद तथा फिरकापरस्ती पर एक बार फिर से जमीयत ए उलेमा ए हिंद ने दृढ़तापूर्वक दोहराया कि देश में धर्मनिरपेक्षता और अमन के खिलाफ किसी भी ताकत को उभरने नहीं दिया जाएगा। जमीयत के 30वें इजलास में उलेमा ने सरकार को यह भी साफ-साफ कह दिया कि केंद्रीय मदरसा बोर्ड को किसी कीमत पर बर्दाश्त नहीं होगा। मुसलमानों को विकास की मुख्यधारा से जोड़ने के लिए सच्चर कमेटी तथा रंगनाथ मिश्र आयोग की सिफारिशों को जल्द से जल्द लागू किया जाए।

इस मौके पर देश के गृह मंत्री पी चिदंबरम ने कहा कि मुस्लिम देश के सम्मानित नागरिक हैं। उनके हितों की अनदेखी नहीं की जा सकती। आंतकवाद पर निशाना साधते हुए चिदंबरम ने साफ कहा कि यह आतंकवाद-फिरकापरस्ती जिस भी शक्ल में हो, उसका कड़ा विरोध किया जाना चाहिए। आतंकवाद के खिलाफ 25 फरवरी 2008 को दारूल उलूम द्वारा दिए गए फतवे की भी उन्होंने सराहना की।

शेखुल हिंद नगर में इजलास के अंतिम दिन खुले अधिवेशन में देशभर से उमड़े उलेमाओं और मुस्लिमो को संबोधित करते हुए चिंदबंरम ने कहा कि आतंकवाद के खिलाफ फतवा केवल मुसलमानों पर ही लागू नहीं होता, बल्कि यह सभी पर लागू है। अल्पसंख्यक के उत्पीड़न के मुद्दे पर ग़ृहमंत्री ने साफ तौर पर कहा कि यह बहुसंख्यकों की जिम्मेदारी है वे अल्पसंख्यकों के हितों की रक्षा करें।

हर क्षेत्र में अल्पसंख्यक की परिभाषा बदल जाती है। इस गोल्डन रूल के तहत जहां जम्मू कश्मीर में मुसलमान बहुसंख्यक है तो पंजाब में सिख। श्रीलंका में तमिलों का उत्पीड़न तथा आस्ट्रेलिया में भारतवंशियों पर हमलों के मामलों में भी भारत की यही सोच है।

अल्पसंख्यकों के शैक्षिक-आर्थिक पिछड़ेपन को लेकर उन्होंने कहा कि सर्वशिक्षा अभियान, कस्तूरबा गांधी आवासीय स्कूल अल्पसंख्यकों के शैक्षिक उन्नयन को बेहतर जरिया है। अल्पसंख्यकों को विकास की मुख्य धारा से जोड़ने के लिए प्रधानमंत्री के पंद्रह सूत्री कार्यक्रम के तहत गंभीरता से सतत प्रयास किए जा रहे हैं।

इस मौके पर जमीयत के राष्ट्रीय अध्यक्ष कारी सैय्यद मोहम्मद उस्मान, महमूद असद मदनी, केंद्रीय मंत्री सचिन पायलट, सांसद सीताराम येचुरी, योग गुरु बाबा रामदेव, स्वामी अग्निवेश ने भी विचार रखे। उस्मान तथा मदनी ने गृहमंत्री के समक्ष इजलास में पारित 25 विभिन्न प्रस्तावों को भी रखा। इससे पहले सुबह जमीयत के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने ध्वजफहरा कर कार्यक्रम का उद्घाटन किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:न आतंकवाद बर्दाश्त और न मदरसा बोर्डः जमीयत-उलेमा-ए-हिन्द