DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तीन किलो मारफीन व 16 लाख रुपये बरामद

आतंकवाद निरोधक दस्ता (एटीएस) और सिविल पुलिस ने सोमवार की रात संयुक्त कार्रवाई में स्थानीय ओपीएम फैक्ट्री से मारफीन की तस्करी करने वाले रैकेट का पर्दाफाश करते हुए पांच लोगों को लगभग तीन किलोग्राम मारफीन तथा 16 लाख 21 हजार नगद रुपये के साथ गिरफ्तार कर लिया।

गिरफ्तार लोगों में केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) के चार जवान और ओपीएम फैक्ट्री का एक कर्मचारी शामिल है। फैक्ट्री के महाप्रबंधक राजेन्द्र सिंह ने बताया कि पकड़े गये फैक्ट्री के कर्मचारी को तत्काल प्रभाव से निलम्बित कर दिया गया है और इस मामले की जांच की जा रही है।

एसपी एल रविकुमार ने मंगलवार को अपने कार्यालय में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि वाराणसी जोन की एटीएस टीम को पता चला था कि ओपीएम फैक्ट्री की सुरक्षा के लिए तैनात सीआईएसएफ के कुछ जवान और फैक्ट्री के कतिपय कर्मचारियों की मिलीभगत से मारफीन व अफीम की तस्करी की जा रही है।

सोमवार की रात में जंगीपुर थानाध्यक्ष असलम सिद्दीकी जब फोर्स के साथ कस्बे में गश्त कर रहे थे तो एटीएस के उपनिरीक्षक अश्विनी चतुर्वेदी ने उन्हें सूचना दी कि मिट्ठनपारा गांव से दो व्यक्ति मोटरसाइकिल से मादक पदार्थ और काफी रुपया लेकर शहर की ओर जा रहे हैं।

सूचना मिलते ही पुलिस ने घेराबंदी कर दोनों व्यक्तियों को पकड़ लिया। इनमें से एक नारायण यादव (इच्छा चौबे का पूरा थाना नरहीं जिला बलिया) ओपीएम फैक्ट्री में तैनात सीआईएसएफ का जवान है। उसके पास से पुलिस ने एक किलो मारफीन, पांच लाख आठ हजार रुपया और एक मोबाइल बरामद किया। दूसरा व्यक्ति उमाशंकर यादव (मिट्ठापारा थाना जंगीपुर जिला गाजीपुर) अफीम फैक्ट्री का कर्मचारी है। उसके पास भी एक किलो मारफीन, तीन लाख 53 हजार रुपया और दो मोबाइल मिला। इस गिरफ्तारी की जानकारी मिलते ही सीओ सिटी ओपी पांडेय व सीआईएसएफ के असिस्टेंट कमांडेंट खजान सिंह मौके पर पहुंचे और दोनों से पूछताछ की।

दोनों की निशानदेही पर पुलिस ने ओपीएम फैक्ट्री कम्पाउंड स्थित सीआईएसएफ के आरक्षी हीरालाल के आवास पर छापा मारकर वहां हीरालाल तथा सीआईएसएफ के दो और आरक्षियों एके सिंह व देवेन्द्र कुमार को धर दबोचा। हीरालाल के पास तीन सौ ग्राम अफीम, पांच सौ ग्राम मारफीन, पांच लाख 96 हजार 500 रुपया, एक मोबाइल व एसएलआर का तीन कारतूस, एके सिंह के पास 110 ग्राम मारफीन, 90 हजार रुपया, एक मोबाइल सेट तथा देवेन्द्र सिंह के पास 110 ग्राम मारफीन, 43 हजार 500 रुपया और एक मोबाइल बरामद हुआ।

एसपी ने बताया कि बरामद मारफीन की अन्तरराष्ट्रीय बाजार में कीमत लगभग तीन करोड़ रुपया है। पकड़े गये पांचों लोगों ने बताया कि उनके रैकेट में फैक्ट्री के कर्मचारी अनिल उर्फ विधायक, शिवबचन और पहलवान आदि भी शामिल हैं तथा इस अवैध धंधे में सीआईएसएफ की विजिलेंस टीम व सुरक्षा टीम के भी कई लोग सहयोग करते हैं।

अफीम को फैक्ट्री से बाहर निकालने में रईस और सुरेश नामक व्यक्ति मदद करते हैं। गिरफ्तार लोगों के खिलाफ जंगीपुर थाने और शहर कोतवाली में प्राथमिकी दर्ज कर पुलिस ने उन्हें जेल भेज दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:तीन किलो मारफीन व 16 लाख रुपये बरामद