DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बहुसंख्यकों को अल्पसंख्यकों की रक्षा करनी चाहिए: चिदंबरम

बहुसंख्यकों को अल्पसंख्यकों की रक्षा करनी चाहिए: चिदंबरम

गृह मंत्री पी चिदंबरम ने मंगलवार को देवबंद में मुस्लिम समदाय को संबोधित करते हुए कहा कि किसी भी देश के लिए अपने अल्पसंख्यकों की उपेक्षा करना जोखिमभरा कार्य साबित हो सकता है और बहुसंख्यकों का कर्तव्य है कि वह अल्पसंख्यकों को सुरक्षा दे।

उन्होंने कहा कि हमें हमेशा याद रखना चाहिए कि बहुलवाद ही हमारा धरोहर एवं ताकत है। बहुसंख्यकों का कर्तव्य है कि वह अल्पसंख्यकों की रक्षा करें। कुछ लोगों की कारगुजारियों से असमानता उपजी है।

जमायत-उलेमा-ए-हिंद के 30वीं आम सभा में उन्होंने कहा कि इस्लाम को हम विदेशी मत के रूप में नहीं देखते, क्योंकि यह आपके पूर्वजों की भूमि है, यह आपकी जन्मभूमि है। यह हमारे लिए गर्व का विषय है कि इस्लाम बडे़ धर्मों के साथ भारत में मौजूद है।

गृह मंत्री ने कहा कि ऐसे समय में जब दूसरे देशों में अल्पसंख्यकों को निशाना बनाया जा रहा है सरकार उनके अधिकारों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि श्रीलंका में तमिलों के अधिकार नहीं दिए जा रहे और ऑस्ट्रेलिया में भारतीय छात्रों पर हमला हो रहा है ऐसे समय में हमें मुस्लिमों के अधिकारों के बारे में बोलने में कोई हिचकिचाहट नहीं हो रही।

चिदंबरम ने कहा कि सांप्रदायिकता की निंदा की जानी चाहिए और आधुनिक समाज बनाने में यह बाधा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बहुसंख्यकों को अल्पसंख्यकों की रक्षा करनी चाहिए: चिदंबरम