DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

निमोनिया से लड़ने के लिए संयुक्त राष्ट्र ने खोली झोली

निमोनिया से लड़ने के लिए संयुक्त राष्ट्र ने खोली झोली

दुनिया भर में बच्चों की जानलेवा बीमारी निमोनिया से लड़ने के लिए संयुक्त राष्ट्र द्वारा निर्धारित किए गए 39 अरब डॉलर की रकम का तकरीबन आधा हिस्सा भारत और चीन पर खर्च किया जाएगा।

संयुक्त राष्ट्र के एक अधिकारी ने बताया कि विश्व स्वास्थ्य संगठन और यूनीसेफ ने विश्व निमोनिया दिवस के अवसर पर कल इस कार्यक्रम की शुरुआत की। साल 2015 तक 50 लाख बच्चों को इस जानलेवा बीमारी से बचाने के लिए यह कार्यक्रम शुरू किया गया है।

यूनीसेफ के कार्यकारी निदेशक एनएम वेनेमन ने बताया कि ग्लोबल ऐक्शन प्लान फॉर प्रिवेंशन एंड कंट्रोल ऑफ निमोनिया [गैप] के तहत चीन और भारत पर क्रमश: 13 और सात अरब डॉलर पर खर्च आने की संभावना है। इस योजना के तहत अधिक बाल मत्यु दर वाले 68 देशों में निमोनिया के इलाज और टीकारण का कार्यक्रम चलाया जाएगा।

कार्यक्रम में संयुक्त राष्ट्र की कई एजेंसियां और गैर सरकारी संगठन भाग लेंगे। शैक्षणिक संस्थानों को इस जानलेवा बीमारी के बारे में जागरूकता फैलाने की खास तौर पर जिम्मेदारी दी गई है। वेनेमन ने बताया कि पांच साल से कम उम्र के बच्चों को निमोनिया से ज्यादा खतरा रहता है। निमोनिया हर रोज चार हजार से ज्यादा बच्चों की जान लील लेता है। इससे होने वाली मौतों को कम करने के लिए प्रभावी कदम उठाने होंगे। निमोनिया की वजह से हर साल तकरीबन बीस लाख बच्चे मर जाते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:निमोनिया से लड़ने के लिए संयुक्त राष्ट्र ने खोली झोली