DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

84 के दंगाईयों को सजा मिलेः अंतरराष्ट्रीय समूह

84 के दंगाईयों को सजा मिलेः अंतरराष्ट्रीय समूह

मानवाधिकारों की वकालत करने वाले एक अंतरराष्ट्रीय समूह ने भारत सरकार से 1984 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद भड़के सिख विरोधी दंगों में लिप्त लोगों के खिलाफ मुकदमा चलाने के लिए कहा है।

ह्यूमन राइट्स वाच में दक्षिण एशिया मामलों की एक वरिष्ठ शोधार्थी मीनाक्षी गांगुली ने कहा है कि 1984 में हुए नरसंहार के शिकार लोगों को अब तक न्याय का इंतजार है। सरकार को इन दंगों में लिप्त लोगों के खिलाफ मुकदमा चलाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि उग्रवादियों और सुरक्षा बलों दोनों ने ही गंभीर अपराध किए और एक दूसरे के दुर्व्यवहार की ओर संकेत करते हुए इसे जायज ठहराया। लेकिन इसका सर्वाधिक खामियाजा जिन्हें भुगतना पड़ा, वह आम नागरिक थे।

ह्यूमन राइट्स वाच के बयान में कहा गया है कि घटना के दो दशक बाद भी पीड़ित और उनके परिजन न्याय मांग रहे हैं, जबकि मुकदमों की सुनवाई लंबे समय से चलती जा रही है।

इसमें आरोप लगाया गया है कि ज्यादतियों में भूमिका होने के सबूतों के बावजूद किसी भी सरकारी अधिकारी या राजनीतिज्ञ के खिलाफ मुकदमा नहीं चलाया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:84 के दंगाईयों को सजा मिलेः अंतरराष्ट्रीय समूह