DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

70 प्रतिशत महिलाएं एनीमिया की शिकार

जिले के महिला अस्पताल में आने वाली महिलाओं में से 70 प्रतिशत महिलाएं एनीमिया की शिकार हैं। डॉक्टरों के मुताबिक अस्पताल में आने वाली ज्यादातर महिलाओं में खून की कमी होती है। महिलाओं में एनीमिया की इस परेशानी के बारे में ब्लड टेस्ट से पता चला है।

महिला अस्पताल में महीने में कम से कम आठ हजार टेस्ट होते हैं। एनिमिया की परेशानी सबसे ज्यादा प्रेगिनेंट महिलाओं में है। महिलाओं में बढ़ रहा एनीमिया परेशानी का सबब है, क्योंकि इससे आने वाला बच्चा सबसे ज्यादा प्रभावित होगा। अस्पताल में आने वाली ज्यादातर महिलाओं की शिकायत होती है कि वे ज्यादा काम नहीं कर पा रही हैं। उन्हें जल्द थकान महसूस हो रही है। कमजोरी की शिकायत है। माहवारी में परेशानियां हैं। ये सभी परेशानियां सामान्य रूप से शरीर में खून की कमी के कारण ही होती हैं।

डॉक्टरों का कहना है कि महिलाओं में एनिमिया बढ़ने से उनकी परेशानियां लगातार बढ़ती हैं। गर्भावस्था में महिलाओं में इसकी शिकायत ज्यादा होने के कारण उनसे उनके बच्चों में भी इस परेशानी के आने की संभावना बढ़ रही है।

 

एनिमिया के मुख्य कारण
-संतुलित आहार नहीं मिलना
-गर्भावस्था के दौरान महिलाओं में खून की कमी
-गर्भावस्था के दौरान खान-पान में एहतिआत न बरतना
-एनिमिया जेनेटिक भी होता है, अगर मां को एनीमिया रहा हो तो बच्चे को भी हो सकता है

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:70 प्रतिशत महिलाएं एनीमिया की शिकार