DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मैनेजमेंट कोटे का रिजल्ट तैयार होने के बावजूद जारी नहीं किया

काउंसिलिंग का बहिष्कार करते हुए सत्र 2006-07 में सीधे प्रवेश करने वाले 122 कॉलेजों की सजा 17 हजार छात्र-छात्रओं को दी जा रही है। रिजल्ट तैयार होने के बावजूद विवि ने जांच के नाम पर अभी तक परिणाम जारी नहीं किया है। विवि के इस रवैये से छात्र व अभिभावक दोनों परेशान हैं। कोर्ट के आदेशों पर 07-08 में सीधे प्रवेश पाने वाले छात्रों के प्रैक्टिकल भी नहीं कराए जा रहे हैं।

सुप्रीम कोर्ट तक परीक्षा के लिए लड़ने वाले बीएड कॉलेजों पर विवि भले ही सीधे कोई कार्रवाई नहीं कर पाया हो, लेकिन छात्र सीधे निशाने पर हैं। सरकार व विवि के शपथ पत्र पर हुई इस परीक्षा के बाद विवि चार महीनों से 17 हजार छात्रों का रिजल्ट दबाए बैठा है। छात्रों का कसूर सिर्फ इतना है कि उन्होंने 122 कॉलेजों में सीधे प्रवेश लेते हुए तीन वर्ष तक परीक्षा का इंतजार किया था।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर विवि ने परीक्षा तो करा दी, लेकिन रिजल्ट रोक लिया है। चौकाने वाली बात यह है कि रिजल्ट को लेकर छात्रों को गुमराह किया जा रहा है। सूत्रों के मुताबिक रिजल्ट जान- बूझकर रोका गया है। जब रिजल्ट तैयार है तो बार-बार जांच के नाम पर छात्रों को क्यों निशाना बनाया जा रहा है।

यदि कोई कार्रवाई करनी है तो सीधे कॉलेजों पर की जाए। सरकार ने छात्र हित में परीक्षा का शपथ पत्र दिया था, ऐसे में अब जांच के नाम पर रिजल्ट क्यों रोका गया है। इसके विपरीत 07-08 में खाली सीटों पर प्रवेश लेने वाले छात्र भी विवि के निशाने पर हैं। विवि ने कोर्ट के आर्डर पर परीक्षा तो करा दी, लेकिन तीन महीने बाद भी प्रैक्टिकल के पैनल नहीं बनाए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मैनेजमेंट कोटे का रिजल्ट तैयार होने के बावजूद जारी नहीं