DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मशीन लैंग्वेज

मशीन कोड या मशीन लैंग्वेज कंप्यूटर के काम करने के लिए जरूरी बेसिक लैंग्वेज है। ज्यादातर मशीन कोड ओ और आई कैरेक्टर के आधार पर काम करते हैं। इसे बायनरी कोड भी कहते हैं। 1940 से लेकर आज तक मशीन कोड कंप्यूटर लैंग्वेज है। इसे असेंबली लैग्वेंज भी कहते हैं।

प्रत्येक सीपीयू मॉडल का अपना मशीन कोड और इंस्ट्रुक्शन सेट होता है। जब प्रोग्रामर किसी कोड के लिए प्रोग्राम लिखता है, तो इसे कंपाइल करने के बाद, जो आउटपुट रन करता है, उसे मशीन कोड कहते हैं। सीधे शब्दों में मशीन कोड प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के आउटपुट का विश्लेषण और प्रोसेस करने का काम करता है।

यह एग्जीक्यूटेबल फाइल (प्रोग्राम को रन करने के बाद आउटपुट देने वाली) के रूप में स्टोर रहता है, जब तक कंप्यूटर का ऑपरेटिंग सिस्टम इसे काम करने को नहीं कहता। जब कोड को स्कैन या रन कराया जाता है, तो सिस्टम अरेंजमेंट को पढ़ता है और उसके आधार पर उसे कार्य आदेश मिलते हैं।

माइक्रोप्रोसेसर मशीन कोड को पढ़ने का काम करता है। माइक्रोप्रोसेसर बायनरी नंबर 0, 1 के आधार पर इसे पढ़ता है और सूचना देता है कि क्या करना है। एग्जीक्यूटिबल फाइल में सूचना होती है कि एक बार में माइक्रोप्रोसेसर को कितने कैरेक्टर पढ़ने हैं।
उदाहरण के तौर पर यदि एग्जीक्यूटिव फाइल में यह सूचना है कि उसे एक बार में 32 कैरेक्टर पढ़ने हैं, तो वह 32 कैरेक्टर के ग्रुप के आधार पर कोड पढ़ेगा। मशीन कोड को पढ़ पाना मुश्किल होता है क्योंकि यह 0, 1 के फॉर्म में होते हैं। असेंबली लैंग्वेज द्वारा 0, 1 को अल्फान्यूमेरिक सिंबल (0 से 9, ए से जेड) में बदला जाता है।  

(पाठकों की मांग पर)

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मशीन लैंग्वेज