DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

माध्यमिक शिक्षा की कमान जूनियरों को

प्रदेश में माध्यमिक शिक्षा की कमान लम्बे समय से जूनियर अफसरों ने सम्भाल रखी है। उनके सीनियरों को बड़ा दायित्व नहीं मिला है। उपनिदेशक (डीडीआर), सहायक निदेशक और संयुक्त निदेशक जैसे पद भी कनिष्ठों के ही पास हैं जबकि 16 वरिष्ठ अधिकारी कहीं न कहीं संबद्ध हैं। इससे शिक्षा व्यवस्था पटरी से उतरती जा रही है लेकिन इस तरफ शासन और शिक्षा विभाग से जुड़े अफसरों का  ध्यान नहीं जा रहा है।

इलाहाबाद मण्डल में संयुक्त शिक्षा निदेशक अमरनाथ वर्मा हैं। इनके पास एडी पत्रचार का अतिरिक्त कामकाज है। राज्य विज्ञान शिक्षा संस्थान की सचिव डॉ.भावना शिक्षार्थी हैं। उनके पास रजिस्ट्रार विभागीय परीक्षाओं का अतिरिक्त कार्यभार है। डीडीआर सुरेन्द्र तिवारी को बाराबंकी के डीआईओएस का अतिरिक्त कार्यभार सौंपा गया है।

आगरा के डीडीआर संजय यादव वहीं के जेडी, मुरादाबाद के डीडीआर महेन्द्र देव वहीं के संयुक्त निदेशक और वाराणसी के डीडीआर ओपी द्विवेदी वहीं के डीआईओएस बना दिए गए हैं। शिक्षा निदेशालय के सूत्रों के अनुसार देवीपाटन, चित्रकूट धाम मण्डल और अलीगढ़ में जेडी की नियुक्ति न होने के कारण शिक्षा विभाग के अफ सरों के कई चहेते डीडीआर वहाँ के जेडी का पद सम्भाल रहे हैं।

डायट वाराणसी के प्राचार्य प्रताप सिंह बघेल के पास उसी मण्डल के  जेडी का काम भी है। कानपुर मण्डल की डीडीआर माया निरंजन भी संयुक्त शिक्षा निदेशक का काम देख रही हैं। लखनऊ के डीडीआर गणेश कुमार के पास डीआईओएस सहित एक अन्य पद का अतिरिक्त चार्ज है। गत वर्ष बोर्ड परीक्षा के दौरान गंभीर गड़बड़ी पाए जाने पर गणेश कुमार निलम्बित कर दिए गए थे। बाद में बहाल हो गए लेकिन लखनऊ के डीआईओएस पद से हटाए नहीं गए।

संयुक्त निदेशक विकास श्रीवास्तव को हाशिए पर रखा गया है। उनको जन सूचना की जिम्मेदारी सौंपी गई है। कई एसोसिएट डीआईओएस को डीआईओएस का कार्यभार सौंप दिया गया है। प्रतापगढ़ के एसोसिएट डीआईओएस विनोद मिश्र को सुलतानपुर और वाराणसी के एसोसिएट डीआईओएस शिवपूजन द्विवेदी क ो आजमगढ़ का कार्यभार मिला है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:माध्यमिक शिक्षा की कमान जूनियरों को