DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छात्राओं को दीनी और आधुनिक शिक्षा दी जाए

जमीयत उलमा-ए-हिंद के 30वें अधिवेशन में पारित एक अहम प्रस्ताव में मुस्लिमों के पिछडेपन को दूर करने के लिए और नए आधुनिक शिक्षण संस्थान स्थापित किए जाने की जरूरत महसूस की। प्रस्ताव में और प्राईमरी स्कूल, हायर सैकंडरी स्कूल, उच्च शिक्षण संस्थान के साथ-साथ इंजीनियरिंग और मेडिकल कालेज स्थापित किए जाने की जरूरत महसूस की गई।

जमीयत उलमा-ए-हिंद इस दिशा में प्रयास कर रही है कि टीचर ट्रेनिंग कालेज, महिला पीटीसी कालेज, मदनी गल्र्स हॉस्टल, शाह जि़करया वोकेशनल प्रशिक्षण केंद्र, हाजी पीर इंगलिश मीडियम स्कूल, कालेज ऑ फॉरमेसी की स्थापना और शिक्षण कार्य शुरू हो चुका है। जमीयत का प्रयास यह है कि इन संस्थानों में शिक्षा पा रहे छात्र-छात्रओं, वेशभूषा, इबादत के तरीके और इस्लामी जीवन शैली का विशेष ध्यान रखा जाए।

इस काम के लिए विशेष रूप से प्रशिक्षण शिक्षकों की नियुक्ति की जाए। प्रस्ताव में छात्रओं की दीनी और आधुनिक शिक्षा के लिए स्थानीय स्तर पर शिक्षण संस्थाओं की स्थापना किए जाने और उनके लिए पर्दे की पाबंदी और शरीयत की रोशनी में पाठ्यक्रम तैयार किए जाने की जरूरत पर बल दिया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:छात्राओं को दीनी और आधुनिक शिक्षा दी जाए