DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कोड़ा व सहयोगियों की संपत्ति जब्त करने का काम शुरू

कोड़ा व सहयोगियों की संपत्ति जब्त करने का काम शुरू

झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा की कथित परिसंपत्तियों पर आयकर विभाग के छापे जहां सोमवार को भी जारी रहे वहीं उनके सहयोगी विनोद कुमार सिन्हा को आय कर अधिकारियों के समक्ष छह नवंबर से पहले पेश होने के लिए कहा गया है। आयकर विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि कोड़ा यहां अपने आवास पर हैं और आयकर विभाग की टीम के छापे और पूछताछ जारी है।
    
560 करोड़ रूपये के कथित हवाला लेन देन और 1500 करोड़ रूपये के अवैध निवेश के संबंध में क्या आयकर विभाग इंटरपोल की मदद लेगा, इस संबंध में अधिकारी ने कहा कि विभाग आयकर अधिनियम के प्रावधानों के तहत छापे मार रहा है।
    
शनिवार को आयकर अधिकारियों ने कोड़ा और उनके सहयोगियों की दिल्ली, कोलकाता, मुंबई, लखनउ, नासिक, रांची, चायबासा और जमशेदपुर स्थित ठिकानों पर इन आरोपों के बाद छापे मारे कि उन्होंने मुख्यमंत्री और अर्जुन मुंडा सरकार में खनन मंत्री के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान अवैध धन जमा कर लिया है।

सुरक्षाकर्मियों ने रांची स्थित कोड़ा के घर को घेर लिया है और झारखंड के सिंहभूम चुनाव क्षेत्र से लोकसभा सांसद से पूछताछ की जा रही है। उधर, आयकर विभाग ने कोड़ा के एक सहयोगी सिन्हा को छह नवंबर से पहले पेश होने या कानूनी कार्रवाई का सामना करने के लिए तैयार रहने का आदेश दिया है।

वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सिन्हा के अलावा संजय कुमार चौधरी, देवेन्द्र मुखिया, बसंत भट्टाचार्य, मनोज पुनमिया और अनिल बस्ताव्दे को भी पेश होने के लिए आदेश दिया गया है। उन्होंने कहा कि अगर वे पेश नहीं हुए तो विभाग को विभिन्न अधिनियमों के तहत उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
    
उन्होंने कहा कि इन लोगों को आयकर विभाग के अतिरिक्त निदेशक, रांची के सम्मुख छह नवंबर को 11 बजे कुछेक लेन देन और घटनाओं की जानकारी देने के लिए पेश होना पड़ेगा।

इस बीच, राज्य सतर्कता विभाग ने सोमवार को कहा कि वह आय कर विभाग से जब्त वस्तुओं और परिसंपत्तियों की जानकारी देने को कहेगा ताकि वह आय के ज्ञात स्रोतों से अधिक अधिक संपत्ति रखने संबंधी मामले में इन्हें कोड़ा के खिलाफ सुबूत के तौर पर रख सके। विभाग इस मामले की पहले से जांच कर रहा है।
   
पुलिस महानिरीक्षक, सतर्कता एमवी राव ने कहा कि हम निश्चित तौर पर आय कर विभाग से आग्रह करेंगे कि वह जब्त की गयी वस्तुओं और संपत्तियों की जानकारी हमें भी दे। गत पांच अक्टूबर को सतर्कता विभाग ने पूर्व मंत्रियों एनोस एक्का और हरिनारायण राय के खिलाफ आरोप पत्र दायर किये थे जो अब जेल में हैं।
   
पिछले तीन दिनों के दौरान आय कर विभाग की अलग अलग टीमें कोड़ा और उनके सहयोगियों की कथित परिसंपत्तियों पर छापे और उन्हें सील करने में लगी हैं। इन पर हवाला लेन देन और अवैध निवेश का आरोप है।

आयकर विभाग ने दावा किया था कि उसने दिल्ली, कोलकाता, मुंबई, नासिक, लखनउ, रांची, चायबासा और जमशेदपुर में छापों के दौरान 2000 करोड़ रूपये से अधिक के हवाला लेन देन और अवैध निवेश के सबूत बरामद किये हैं।
   
यह छापे प्रवर्तन निदेशालय द्वारा कोड़ा और उनके सहयोगी संजय चौधरी और विनोद कुमार सिन्हा के खिलाफ नौ अक्टूबर को विदेशों में व्यापक अवैध निवेश का मामला दर्ज करने के बाद मारे गये। इस बीच, एक वरिष्ठ आयकर अधिकारी ने आज रात आरोप लगाया कि कोड़ा और छह अन्य लोग आयकर अधिकारियों के साथ पूछताछ में पूर्ण सहयोग नहीं कर रहे हैं। उन्होने कहा कि यदि उनका व्यवहार जारी रहा तो कानूनी कार्यवाही की जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कोड़ा व सहयोगियों की संपत्ति जब्त करने का काम शुरू