DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुसलमान देश में दूसरे दर्जे के नागरिक हैं: जसवंत

पूर्व केन्द्रीय मंत्री जसवंत सिंह ने कहा कि आजादी के छह दशक बाद भी मुसलमान देश में दूसरे दर्जे के नागरिक की तरह रह रहे हैं। सिंह ने अपनी पुस्तक (इंडिया पार्टिशन इन्डीपेंडेन्स जिन्ना) के ऊदरू संस्करण के विमोचन के अवसर पर यहां आयोजित समारोह में कहा कि आजादी के 62 वर्षों के बाद भी मुसलमान देश में दूसरे दर्जे के नागरिक की तरह रह रहे हैं। उन्होंने कहा कि उन्हे अपने हक की लडाई के लिए एकजुट होकर संघर्ष करना चाहिए।

 

 उन्होंने कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने अंग्रेजों से कहा था कि वे देश छोड़कर चले जाएं और हिन्दू तथा मुस्लिम आपसी विवादों को खुद मिल बैठकर सुलझा लेंगें लेकिन ऐसा नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि देश का विभाजन सिर्फ जमीन का बंटवारा नहीं था बल्कि इससे कई परिवार प्रभावित हुए जिसका दंश वे आज भी झेल रहे हैं। उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल और पंजाब विभाजन से सबसे ज्यादा प्रभावित हुए राज्य हैं क्योंकि इनके कुछ हिस्से पाकिस्तान में चले गए है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मुसलमान देश में दूसरे दर्जे के नागरिक हैं: जसवंत