DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गन्ना-मूल्य से किसान नहीं हैं खुश, आंदोलन के आसार

गन्ना मूल्य पर केंद्र सरकार के फैसले के बाद किसान परेशान हैं। इसको लेकर किसान राजनीति गर्मा गई है और जगह-जगह आंदोलन की सुगबुगाहट हो रही है। गंगा मेले में भी इसे लेकर खासी चर्चा रही। किसान लामबंद होकर गन्ना आंदोलन छेड़ने के मूड में नजर आ रहे हैं।

वेस्ट यूपी की सियासत में गन्ना बड़ा मुद्दा है। इस बार प्रदेश सरकार ने गन्ने का मूल्य 165-170 रुपए प्रति कुंतल किया तो इसका विरोध शुरू हो गया। किसान विरोध कर रहे थे कि केंद्र ने मूल्य निर्धारण का अधिकार राज्यों से छीन लिया। शुगर बाउल के किसान इस फैसले के विरोध में आ गए हैं। गंगा मेले पर यह मुद्दा चर्चा का खास विषय बना हुआ है। अलग-अलग स्थानों से यहां करीब चालीस लाख लोग जुटे हैं, इनमें किसानों की संख्या सबसे ज्यादा है। अलग-अलग जगहों से आए लोगों की राय गन्ने पर एक है कि मिलों पर गन्ना न डाला जाए।

मेले में छोटी-छोटी पंचायते हो रही हैं और किसानों की नजर पांच को मेरठ में होने वाली पंचायत पर लगी है। इस महापंचायत में कोई बड़ा फैसला हो सकता है। इन किसानों में दौराला से आए युद्धवीर हों या हसनपुर से दिनेश खटाना, सभी गन्ना मूल्य दो सौ रुपए से अधिक करने की मांग कर रहे हैं। रालोद के जिलाध्यक्ष चौधरी अजयवीर सिंह ने कहा कि इस फैसले के बाद कोल्हू और क्रेशर पर गन्ने के दाम गिर गए हैं, किसान बेहाल हैं। गांव-गांव संपर्क किया जा रहा है, गन्ने को लेकर बड़ा आंदोलन खड़ा किया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गन्ना-मूल्य से किसान नहीं हैं खुश, आंदोलन के आसार