DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आतंकियों ने 12033 मिनट तक अपने आकाओं से बातचीत की

आतंकियों ने 12033 मिनट तक अपने आकाओं से बातचीत की

मुंबई हमले के मामले की सुनवाई कर रही विशेष अदालत में गवाह पुलिस निरीक्षक नवरुति कदम ने बताया  कि ताज होटल में छिपे आतंकवादियों ने अपने हर अगले कदम के बारे में निर्देश के लिए अपने आकाओं से 12 हजार 33 मिनट बातचीत की थी।

कदम ने आतंकवादियों और उनके आकाओं के बातचीत का ब्यौरा न्यायाधीश एमएल तहिलयानी की विशेष अदालत में सौंपते हुए कहा कि पिछले वर्ष 26 नवंबर को हमले के दौरान होटल से चार में तीन आतंकवादियों ने पाकिस्तान में अपने आकाओं से बातचीत की थी, जबकि एक चुप रहा। हालांकि दूसरे आतंकवादियों ने बातचीत के दौरान उसका भी नाम लिया था।

आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) की तकनीकी शाखा से जुड़े कदम ने हमले के दौरान आतंकवादियों और उनके आकाओं के बीच हुई बातचीत रिकॉर्ड की थी। पुलिस निरीक्षक के अनुसार आतंकवादियों ने अपने आकाओं को बताया था कि मीडिया रिपोर्ट के अनुसार एक आयुक्त मारा गया है और वे भयंकर तबाही फैला रहे हैं। आकाओं ने उनसे पूछा कि क्या वे होटल के विभिन्न कमरों को निशाने पर लेकर वहां भय और दहशत का माहौल फैला रहे हैं तो उन्होंने इसका हां में जवाब दिया था। आकाओं ने फिर उन्हें तबाही जारी रखने और हर 15-20 मिनट पर गोले दागने का निर्देश दिया था।

कदम के अनुसार आकाओं ने आतंकवादियों से बंधकों का नाम पता करने और उन्हें यह बताने के लिए कहा था कि कोई विशिष्ट व्यक्ति बंधक तो नहीं है ताकि भारत सरकार को पुलिस एवं सैन्य कार्रवाई रुकवाने और बातचीत के लिए मजबूर किया जा सके। आकाओं ने उनसे कहा कि वे होटल के अलग-अलग स्थानों पर रहें और उनके समीप जो भी पुलिसकर्मी या सेना का जवान आएं उसे मार दें। आकाओं ने आतंकवादियों को बताया कि मुंबई एटीएस प्रमुख मारा गया है। एक आतंकवादी ने आकाओं को बताया कि उनकी गिरफ्त में केआर राममूर्ति नामक एक ब्राह्मण है जो कर्नाटक विश्वविद्यालय का शिक्षक है और उसे रक्तचाप की बीमारी है। मुंबई हमले के मामले में राममूर्ति ने भी अदालत में गवाही दी थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आतंकियों ने 12033 मिनट तक अपने आकाओं से बातचीत की