अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नौकरी देने के नाम पर ठगी करने वाले पांचगिरफ्तार

उत्तर प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान व छत्तीसगढ़ के रसायन एवं उर्वरक विभाग के नाम पर फर्ाी रिक्ितयां निकाल कर नौकरी के नाम पर ठगी करने वाले एक गिरोह के पांच सदस्यों को शनिवार को गांधी मैदान पुलिस ने दबोच लिया। पकड़े गए लोगों में दो महिलाएं भी हैं। पुलिस ने इनके पास से सैकड़ों आवेदन, चार मोबाइल, रािस्ट्रेशन स्लिप व कई कॉल लेटर बरामद किए हैं। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार प्रशिक्षु डीएसपी अजय नारायण को उमा सिनेमा के सामने आजाद मार्केट के एक कमर में चल रहे इस गोरखधंधे की खबर मिली थी। इसके बाद पुलिस ने सादी वर्दी में वहां जालड्ढr बिछा दिया।ड्ढr ड्ढr शनिवार को जब यह गिरोह उत्तर प्रदेश से आए दो बेरोगार युवकों को इंटरव्यू के नाम पर ठग रहा था तभी पुलिस ने वहां छापेमारी कर दी। इस दौरान दोनों युवकों का इंटरव्यू ले रहा गोपाल सिंह व उसकी पत्नी उषा पाण्डेय (समस्तीपुर), मसौढ़ी निवासी अभय कुमार व सुनीता कुमारी एवं पुनाईचक निवासी शंकर कुमार चौधरी को पुलिस ने दबोच लिया। हालांकि पकड़े गए लोगों ने पुलिस को बताया कि इस गोरखधंधे का मास्टरमाइंड व सरगना बबलू नामक युवक है जो आशियाना या दानापुर इलाके का निवासी है। इन लोगों ने बताया कि वे सभी बेरोगार थे और अल्प तनख्वाह पर यहां काम कर रहे थे। इस गिरोह ने ऐसा जाल फैला रखा था कि किसी को संदेह नहीं होता था। बाजाप्ता विज्ञापन प्रकाशित कर और फर्ाी आवेदन फार्म, विक्रेताओं के माध्यम से यह गिरोह बिकवाता था। इंटरव्यू और रािस्ट्रेशन के नाम पर 650 रुपये और ज्वाइनिंग के नाम पर प्रति उम्मीदवार 7500 रुपये वसूले जाते थे। डीएसपी ने बताया कि यह गिरोह चार-पांच वर्षो से पटना में यह गोरखधंधा चला रहा था। पुलिस गिरोह के सरगना की तलाश में लगी है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: नौकरी देने के नाम पर ठगी करने वाले पांचगिरफ्तार