DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

झारखंड में घमासान, यूपीए-एनडीए परेशान

राज्य का चुनावी परिदृश्य अब तक साफ नहीं हुआ। यूपीए-एनडीए में टिकट पर घमासान जारी है। कई दौर की बातचीत और बैठकों के बावजूद कुछ तय नहीं हुआ है। यूपीए के घटकों में कलह मची है, तो एनडीए भी कम परशान नहीं है।ड्ढr कांग्रेस में तीन सांसदों को टिकट देने पर संशय: कांग्रेस में खूंटी, धनबाद और चाईबासा को लेकर मंथन जारी है। शुक्रवार को दिल्ली में देर रात तक चली स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक शनिवार को भी हुई। प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप बलमुचू दिल्ली में ही हैं। धनबाद को लेकर भी लॉबिंग भी तेज है। ददई दूबे भी वहीं हैं। खूंटी की सांसद सुशीला केरकेट्टा ने कहा है कि उम्मीदवारों की घोषणा में विलंब से अच्छा मैसेज नहीं जाता।धीरंद्र के खिलाफ राजद विधायक पहुंचे लालू दरबार: चतरा के सांसद धीरंद्र अग्रवाल को टिकट नहीं देने के लिए प्रकाश राम छोड़ राजद के सभी विधायक, प्रदेश अध्यक्ष गौतम सागर राणा और दो पूर्व एमएलए मोरचा खोलें है। राजद नेता सुप्रीमो लालू प्रसाद के पास गये हैं। वे गिरिनाथ सिंह को टिकट देने की वकालत कर रहे हैं। विधायक विदेश सिंह और रामचंद्र सिंह ने तो यहां तक कहा है कि अग्रवाल को टिकट दिये जाने से जमानत भी नहीं बचेगी। सुमन महतो के खिलाफ झामुमो में बगावत: जमशेदपुर सीट से झामुमो की उम्मीदवारी का मसला उलझता ही जा रहा है। शनिवार को जिला कमेटी की बैठक में 12 में से 10 प्रखंड कमेटियों ने न सिर्फ वर्तमान सांसद सुमन महतो की उम्मीदवारी का जमकर विरोध किया, बल्कि पार्टी महासचिव विद्युत महतो की उम्मीदवारी की मांग भी कर डाली। दो प्रखंडों के पदाधिकारी तटस्थ रहे। एनडीए में अब तक फंसा है पेंच: भाजपा- जदयू के बीच सीटों का बंटवारा तीखा हो गया है। कोडरमा, चतरा और पलामू का मामला लटका है। भाजपा एक सीट देना चाहती है। जदयू को यह मंजूर नहीं। दिल्ली में ही झारखंड का हिसाब होना है। कोडरमा पर जदयू का क्लेम नहीं है, लेकिन भाजपा ने अभी तक उम्मीदवार की घोषणा नहीं की है। रवींद्र राय की उम्मीदवारी पर मुहर नहीं लगने से कई कयास लगाये जा रहे हैं। भाजपा चतरा से नामधारी को लड़ाना चाहती है। चतरा पर ही पलामू का फैसला टिका है। जदयू चतरा के साथ पलामू सीट भी चाहता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: झारखंड में घमासान, यूपीए-एनडीए परेशान