DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फिर असंतोष की चिंगारी

उम्मीदवारों के चयन को लेकर भाजपा में उठी असंतोष की चिंगारी रविवार को भी दिखी। यहां दिन भर विक्षुब्ध गतिविधियां परवान पर रहीं। विक्षुब्धों के मूड को देखते हुए सोमवार को दिल्ली में होने वाली प्रदेश कोर कमेटी की बैठक के हंगामाखेज होने के आसार हैं।ड्ढr ड्ढr कमेटी के प्रमुख नेता और पीएचईडी मंत्री अश्विनी चौबे का निवास रविवार को विक्षुब्ध गतिविधियों का केन्द्र बना रहा। बताया गया कि वहां सतीश दूबे, जनार्दन यादव, अवनीश सिंह और प्रदीप दास जैसे कई विधायक-नेता और उनके समर्थक पहुंचकर अपनी भड़ास निकाल रहे थे। दूसरी तरफ उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी की अगुआई में हुई प्रदेश पदाधिकारियों और सरकार में शामिल भाजपा मंत्रियों की बैठक में भी बागी तेवर शबाब पर रहा। अध्यक्ष राधामोहन सिंह जहां बैठक में नहीं थे वहीं चौबे और नन्दकिशोर यादव की गैर मौजूदगी के भी अर्थ निकाले गए। सूत्रों के अनुसार मोदी को यह सफाई देनी पड़ी कि किन हालात में एक सीट जदयू को देनी पड़ी। सूत्रों के मुताबिक मंत्री रामप्रवेश राय का कहना था कि पिछले विधानसभा चुनाव में भी उनका टिकट काटा जा रहा था। अब उनका लोकसभा टिकट काटा जा रहा है। विक्षुब्ध जमात ने प्रदेश नेतृत्व पर आरोप लगाया है कि सीटों के तालमेल और उम्मीदवारों के चयन में उनके नेताओं को विश्वास में नहीं लिया गया। केन्द्रीय प्रभारी कलराज मिश्र को जानबूझकर इसकी बैठकों और निर्णयों से अलग रखा गया। सूत्रों के अनुसार नन्दकिशोर यादव से मिलने उनके आवास पर विधायक नित्यानन्द राय, प्रेमरंजन पटेल, प्रो. राजकिशोर सिंह, नितिन नवीन और अनिल सिंह वगैरह गए। अवनीश सिंह का कहना था कि प्रदेश नेतृत्व गणेश परिक्रमा करने वालों को टिकट देने में लगा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: फिर असंतोष की चिंगारी