DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रगति की चुनौतियों के लिए समागम

सुभाषिनी अली: पूर्व सांसद, जनवादी महिला समिति की राष्ट्रीय अध्यक्ष और माकपा केन्द्रीय समिति की सदस्य।

महेश भट्ट: मशहूर फिल्म निर्देशक और उत्तर प्रदेश से जुड़े मामलों के प्रति गहरे सरोकार वाले सामाजिक कार्यकर्ता।

संदीप पाण्डेय: मैगसेसे पुरस्कार विजेता और अन्तरराष्ट्रीय ख्याति के सोशल एक्टिविस्ट, उत्तर प्रदेश में नरेगा व सूचना के अधिकार जैसे मुद्दों पर खास सक्रियता।

युगरत्ना: स्कूली छात्र, पर्यावरण जागरूकता के लिए सक्रिय। ग्लोबल वार्मिग पर संयुक्त राष्ट्र संघ के विशेष अधिवेशन में भागीदारी से सुर्खियों में आईं।

जितिन प्रसाद : केन्द्रीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस राज्य मंत्री। राहुल गांधी की युवा ब्रिगेड के सक्रिय सदस्य, पढ़ाई पूरी करने के बाद मेरिल लिंच, एचडीएफसी सरीखी संस्थाओं में नौकरी, पिता जितेन्द्र प्रसाद के निधन के बाद राजनीति में पदार्पण।

जयंत चौधरी : पंद्रहवीं लोकसभा का युवा चेहरा, लंदन स्कूल ऑफ इकोनामिक्स से पोस्ट ग्रेजुएट, दादा स्वगीय चौधरी चरण सिंह और पिता, राष्ट्रीय लोकदल के अध्यक्ष चौधरी अजित सिंह की राजनीतिक विचारधारा के ध्वजवाहक।


मुख्तार अब्बास नकवी : तेज तर्रार नेता और मुखर वक्ता। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष, इलाहाबाद विश्वविद्यालय में पढ़ाई के दौरान ही राजनीति में कूदे और उसके बाद पूरी तरह रम गए।

के. एल. गुप्ता : उत्तर प्रदेश के पूर्व पुलिस महानिदेशक, पुलिस प्रणाली में सुधारों के मुखर प्रवक्ता।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:प्रगति की चुनौतियों के लिए समागम