DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारत-रुस व्यापार के बीच 'डॉलर' होगा आउट

भारत-रुस व्यापार के बीच 'डॉलर' होगा आउट

भारत और रूस फिर अपनी मुद्राओं में व्यापार करने की व्यवस्था शुरू करने पर विचार कर रहे हैं ताकि अमेरिकी डॉलर पर निर्भरता कम हो और परस्पर आर्थिक सहयोग को और गति प्रदान की जा सके।

सोवियत संघ के समय दोनों पक्ष व्यापारिक लेन-देन में रुपए और रूबल का ही प्रयोग करते थे और उस समय भारत सोवियत गणराज्य का सबसे बड़ा व्यापारिक भागीदार था। वर्ष 1991 में दोनों के बीच व्यापार 5 अरब डॉलर के स्तर पर था।
 
बैंक ऑफ रशिया (रूस के केंद्रीय बैंक) की एक ताजा प्रेस रिलीज में कहा गया है कि दोनों देशों के केंद्रीय बैंक भारत और रूस के वैदेशिक आर्थिक करोबार में राष्ट्रीय मुद्राओं के प्रयोग की संभावना का अध्ययन करने पर सहमत हो गए हैं। रिलीज के मुताबिक दोनों देशों ने मास्को में दोनों पक्षों के बीच बैंकिंग एवं वित्तीय मामलों पर चर्चा के लिए स्थापित कार्य दल की 15वीं बैंठक के दौरान इस मुद्दे पर चर्चा हुई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भारत-रुस व्यापार के बीच 'डॉलर' होगा आउट