DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बाइक वाली नर्स बन गई विधायक

पीजीआई के वार्ड 12 में स्टाफ नर्स का काम करने वाली शकुंतला खटक विधायक बन गई है। खटक की पहचान बाइक है। वो रोजाना बाइक पर ही ड्यूटी पर आती-जाती हैं तथा शहर में भी बाइक पर ही घूमती हैं।
आरक्षित विधानसभा क्षेत्र कलानौर से कांग्रेस प्रत्याशी शकुंतला खटक को 27,796 वोटों के अंतर से जीत मिली। उन्होंने इनेलो के नागाराम को पराजित किया।

कलानौर पूर्व स्वास्थ्य मंत्री करतार देवी का हलका रहा है। वे यहां से तीन बार विधायक बनी थी। इतना ही नहीं उन्हें मंत्री पद भी मिला था। करतार देवी के निधन के बाद उनकी राजनीतिक विरासत संभालने के लिए उनके भाई ने प्रयास किया मगर वे कामयाब न हो सके। कांग्रेस ने उन्हें टिकट नहीं दिया। टिकट मिला नए चेहरे शकुंतला खटक को। खटक को टिकट मिलने के बाद शुरुआत में तो उनका विरोध हुआ लेकिन धीरे-धीरे विरोध खत्म होता चला गया।

91,807 वोटों में से उन्हें 52,059 वोट मिले। यहां से केवल इनेलो का प्रत्याशी ही अपनी जमानत बचा सका। करतार देवी स्वास्थ्य मंत्री रही थी। शकुंतला खटक भी स्वास्थ्य सेवाओं से संबंध रखती हैं। चुनाव जीतने के बाद खटक के दायरे में कार्यकर्ताओं के बीच चर्चा रही कि हुड्डा सरकार में शकुंतला को स्वास्थ्य मंत्री बनाया जा सकता है। शकुंतला ने कांग्रेस पार्टी की रैलियों में बढ़-चढ़कर भाग जरूर लिया था लेकिन विधायक बनेंगी यह तो उन्होंने भी सपने में नहीं सोचा था।

पीजीआई में डॉक्टरों को सैल्यूट मारने वाली शकुंतला खटक की किस्मत तो देखिए। चुनाव परिणाम आने से पहले दिवाली पर डॉक्टरों ने उसके घर आकर बधाइयां दी। विधायक बनने के बाद से वे कलानौर में नहीं हैं। वीरवार दोपहर बाद दिल्ली में रही और  शुक्रवार को विधायक दल की बैठक में भाग लेने के लिए चंडीगढ़ पहुंच गईं। पीजीआई में 19 वर्ष से स्टाफ नर्स की नौकरी करने वाली शकुंतला खटक राजनीतिक पृष्ठभूमि से संबंध नहीं रखती। उनका मायका देवीपुरा गोहाना है तथा ससुराल रोहतक में है। उनके पति एक सरकारी विभाग में नौकरी करते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बाइक वाली नर्स बन गई विधायक