DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अस्तित्व बचाने को मालदीव बेचेगा द्वीप!

जल समाधि के खतरे को देखते हुए अपने आबादी वाले द्वीपों के इर्द-गिर्द तटबंध बनाने के लिए मालदीव सरकार अपने कुछ निजर्न द्वीप धनी देशों के बेचने या पट्टे पर देने की योजना पर विचार कर रही है।

ग्लोबल वार्मिंग के असर पिघल रहे हिमखंडों के कारण समुद्र का जल स्तर इस सदी के अंत तक दो फीट तक बढ़ने का अनुमान है। मालदीव के लगभग 1200 द्वीप समुद्र तल से लगभग सर्वाधिक सात फीट ऊपर हैं। इनमें से दो तिहाई द्वीप संमुद्र तल से सिर्फ चार फीट ऊपर हैं। ऐसे में इन द्वीपों पर भारी तबाही का अनुमान है।

भारत की यात्रा पर आए मालदीव के राष्ट्रपति डा.मोहम्मद नशीद ने यहां ऑबजर्वर रिसर्च फाउंडेशन द्वारा जलवायु परिवर्तन और संघर्ष समाधान विषय पर एक कार्यक्रम में बताया कि मालदीव के द्वीपों को बचाने के लिए तटबंध बनाने की जरूरत है। इसके लिए भारी धन की जरूरत है। भारत मदद कर रहा है लेकिन हमें और धन चाहिए। कुछ धनी देश हमें धन देने का प्रस्ताव दे भी रहे हैं। जाहिर है धन के बदले हमें कुछ बेचना होगा। बाद में जब ‘हिन्दुस्तान’ ने उनसे इस बात का खुलासा करने का अनुरोध किया तो उन्होंने कहा कि हम पर्यटन के जरिए धन जुटाने के और प्रयास करेंगे लेकिन जरूरी हुआ तो अपनी कुछ स्ट्रेटेजिक संपदा (द्वीप) भी बेच सकते हैं।

हिन्द महासागर में मालदीव का जबर्दस्त रणनीतिक महत्व है। विशेष रूप से भारत के लिए मालदीव के द्वीपों का महत्व बहुत ज्यादा है। चीन पहले ही भारत की घेराबंदी करने में जुटा है। वह लंबे समय से मालदीव के किसी द्वीप पर अपना सैन्य अड्डा बनाने की जुगत में लगा है लेकिन राष्ट्रपति नशीद ने इसकी संभावना से इनकार किया। उन्होंने कहा कि हम अपनी संपदा बेचते भी हैं तो यह देखना चाहेंगे कि नोटों का रंग क्या है! जाहिर है वह भारत की सुरक्षा चिंताओं से सरोकार रखते हैं लेकिन सउदी अरब और इजरायल भी मालदीव के संपर्क में हैं।

पूर्व विदेश सचिव शशांक का कहना है कि यदि किसी भी रूप में मालदीव का कोई द्वीप चीन खरीदने में सक्षम हो जाता है या किसी बहाने वहां अपना बेस बना लेता है तो यह भारत की सुरक्षा के लिए खतरा होगा। पूर्व राजनयिक जी.पार्थसारथी का कहना है कि यदि मालदीव सउदी अरब को कुछ द्वीप बेचता है तो इन द्वीपों पर इस्लामी कट्टरपंथियों और आतंकियों के आने का खतरा बना रहेगा क्योंकि सउदी अरब ऐसे तत्वों को आर्थिक मदद देता रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अस्तित्व बचाने को मालदीव बेचेगा द्वीप!