DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पवित्र रिश्ते पर लटकी गौत्र विवाद की तलवार

क्षेत्र में एक और वैवाहिक रिश्ता गौत्र विवाद में उलझ गया है। चार महीने पहले दाम्पत्य-सूत्र में बंधे दम्पति को सुंडाना व बलम्भा की संयुक्त पंचायत ने समाधान का अल्टीमेटम दिया है। समाधान में ‘तलाक’ या फिर ‘गांव निकाला’ है। गांव सुंडाना के कर्मबीर ने 9 जून, 2009 को गांव बलम्भा की लड़की पूजा से विवाह किया था। विवाह रोहतक में न्यायाधीश सुनील चौहान की अदालत में हुआ था। दोनों बालिग हैं। कर्मबीर पुत्र रामफल का गौत्र ढाका है व लड़की का गौत्र अहलावत। दोनों के गांव के बीच की दूरी करीब तीन किलोमीटर है।

करीब एक माह पहले यह रिश्ता समाज में उभर कर आया, जिसके बाद विवाद खड़ा हो गया। दोनों गांवों के लोगों ने कहा कि दोनों गांवों के बीच भाईचारा है। जानकारी के मुताबिक लड़की पूजा को परिजनों से समझाने का प्रयास किया लेकिन वे इसमें कामयाब न हो सके। आखिरकार लड़की के पिता राजेंद्र ने बेटी को बेदखल कर दिया। दोनों पक्षों ने पिछले माह पंचायत की थी। पंचायत में दोनों पक्षों ने जल्द समाधान का आश्वासन दिया था। समाधान नहीं हुआ तो शुक्रवार को गांव सुंडाना में दोनों गांवों के प्रतिनिधियों की बैठक हुई।

बैठक गांव की धौली चौपाल में आयोजित की गई। बैठक की अध्यक्षता सुंडाना के पंच बलबीर ने की। इसमें गांव बलम्भा की ओर से सतीश, मास्टर कर्णसिंह, देवेंद्र व अन्य लोगों ने भाग लिया। बैठक में दोनों गांवों के करीब दो सौ लोगों ने भाग लिया। गांव सुंडाना के छोटू ने बैठक में कहा कि दोनों का अगर तलाक नहीं होता है तो दम्पति को गांव निकाला दे दिया जाए। कर्मबीर के पिता रामफल ने पंचायत से एक सप्ताह का समय मांगा है। उन्होंने कहा है कि वे एक सप्ताह में समाधान निकाल लेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पवित्र रिश्ते पर लटकी गौत्र विवाद की तलवार