DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गन्ना मूल्य तय, 25 रुपए प्रति कुंतल का इजाफा

मुख्यमंत्री मायावती की अध्यक्षता में शुक्रवार को हुई कैबिनेट की बैठक में पेराई सत्र-2009-10 के लिए गन्ना खरीद के लिए राज्य परामर्शीय मूल्य को मंजूरी दे दी गई है। गन्ना खरीद मूल्य में 25 रुपए प्रति कुंतल की वृद्धि की गई है। 25 रुपए प्रति कुंतल की वृद्धि इससे पहले कभी नहीं की गई।

सामान्य प्रजाति के गन्ना का मूल्य पिछले साल के मुकाबले 140 रुपए से बढ़ाकर 165 रुपए प्रति कुंतल किया गया है। अगैती प्रजाति का गन्ना मूल्य 145 रुपए से बढ़ाकर 170 रुपए प्रति कुंतल तय किया गया है। अनुपयुक्त प्रजाति के गन्ना का मूल्य 137.50 रुपए से बढ़ाकर 162.50 रुपए प्रति कुंतल किया गया है। इस रेट से चीनी मिलें गन्ना खरीद सकेंगी।

यूपी सरकार का दावा है कि हरियाणा ने गन्ना मूल्य में दस रुपए प्रति कुंतल और पंजाब ने 20 रुपए प्रति कुंतल की वृद्धि की है। कैबिनेट के इस फैसले से प्रदेश के लाखों गन्ना किसान लाभान्वित होंगे। उल्लेखनीय है कि गन्ने का सांविधिक न्यूनतम मूल्य (एसएमपी) केंद्र सरकार के शुगर केन कंट्रोल आर्डर 1966 के प्रस्तर-3 (1) में निहित प्रावधानों के तहत केंद्र सरकार द्वारा हर साल निर्धारित किया जाता है। केंद्र सरकार द्वारा पेराई सत्र 2009-10 के लिए 9.5 रिकवरी के आधार पर 107.76 रुपए प्रति कुंतल एसएमपी निर्धारित किया गया है।

यह नौ प्रतिशत रिकवरी के आधार पर 101.77 रुपए प्रति कुंतल आंकलित होता है। उल्लेखनीय है कि राज्य परामर्शीय गन्ना मूल्य निर्धारण के लिए प्रदेश सरकार ने मुख्य सचिव की अध्यक्षता में एक उच्च स्तरीय कमेटी गठित की थी। कमेटी ने गन्ना किसानों, चीनी एवं खांडसारी उद्योगों के प्रतिनिधियों, कृषि वैज्ञानिकों एवं संस्थाओं का पक्ष सुना और गन्ना मूल्य निर्धारण से संबंधित सिफारिश की।

कमेटी का तर्क था कि पिछले वर्ष गन्ना उत्पादन की लागत में वृद्धि हुई है। इसलिए गन्ना का मूल्य बढ़ना चाहिए। प्रदेश सरकार ने इन सारे पहलुओं को ध्यान में रखते हुए नए गन्ना मूल्य निर्धारित करने का फैसला किया। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गन्ना मूल्य तय, 25 रुपए प्रति कुंतल का इजाफा