DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

निगम नहीं ले पाया जनस्वास्थ्य विभाग के कामों का जिम्मा

शहर में सिस्टम की एकरूपता भगवान भरोसे है। नगर निगम बने सत्रह महीने बीत चुके हैं, लेकिन घोषणाएं, अब तक घोषणाएं हैं। शहर में सीवर व्यवस्था, जलापूर्ति आदि की जिम्मेदारी निगम को सौंपी जानी थी। इस वर्ष एक सितंबर से जनस्वास्थ्य विभाग को नगर निगम में मिला दिए जाने की बात थी, लेकिन अब तक ऐसा नहीं हो पाया। कामों के लिए अधिकारी कर्मियों की कमी का रोना रो रहे हैं।

लोगों को उम्मीद थी कि निगम में मिल जाने के बाद शहर के सीवर सिस्टम, जलापूर्ति विभाग में एकरूपता आ जाएगी। शहर में ध्वस्त सीवर सिस्टम, लचर जलापूर्ति और सारे इलाकों में एक सी व्यवस्था की जिम्मेदारी निगम को लेनी थी। सूत्रों के अनुसार जनस्वास्थ्य विभाग में कर्मचारियों के बीच की राजनीति, निगम में विभाग के कार्यों को मिलाए जाने की राह में बाधा बन रही है। सरकार के पास प्रपोजल भेजे जाने और घोषणा के बावजूद दोनों विभागों को एक नहीं किया जा सका है।

बताया जा रहा है कि जनस्वास्थ्य विभाग के अधिसंख्य कर्मी, निगम के अंतर्गत काम करने को तैयार नहीं हैं। इस संदर्भ में पूछे जाने पर निगम के मुख्य अभियंता वीके श्रीवास्तव ने बताया कि इन दोनों विभागों को नहीं, बल्कि जनस्वास्थ्य विभाग के काम निगम को हैंडओवर किए जाने थे। कर्मचारियों की कमी के कारण ऐसा नहीं किया जा सका। बीच में चुनाव आ गए। अब नए मुख्यमंत्री के बनने के बाद ही इस दिशा में कोई कार्रवाई हो पाएगी। हुडा के कुछ सेक्टरों के काम भी निगम के अंतर्गत आएंगें।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:निगम नहीं ले पाया जनस्वास्थ्य विभाग के कामों का जिम्मा