DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्वीमिंग पूल मामले में जांच कमेटी ने मांगे कागजात

दस-दस हजार रुपए में स्वीमिंग पूल को एनओसी देने के मामले में जांच शुरू हो गई है। खेल विभाग की तीन सदस्यीय कमेटी ने मामले से संबंधित सभी कागजात मांगे हैं। इस जांच में कई अफसरों पर गाज गिर सकती है।

गाजियाबाद में खेलकूद प्रोत्साहन समिति के नाम पर दस-दस हजार रुपए में स्वीमिंग पूल को एनओसी दी गई थी। इस संबंध में जिला क्रीड़ा अधिकारी मुद्रिका तिवारी ने शिकायत की। इसके अलावा सांसद निधि से एथलैटिक्स ट्रैक भी बनवाया गया, जबकि कोई ट्रैक बना ही नहीं। तिवारी की शिकायत पर खेल विभाग ने तीन सदस्यीय जांच कमेटी बनाई। कमेटी ने अपनी जांच शुरू कर दी है।

दो दिन पहले महामाया स्टेडियम में बन रहे तरणताल और बहुद्देश्यी हॉल का निरीक्षण करने तीन सदस्यीय कमेटी पहुंची। कमेटी में आरएसओ मुख्यालय आरपी सिंह, डिप्टी डायरेक्टर खेल अनिल कुमार बनौदा और वित्त एंव लेखाधिकारी दीपांकर शुक्ला शामिल हैं। इन्होंने मामले से संबंधित सभी कागजात मांगे हैं। जांच समिति ने खेलकूद प्रोत्साहन समिति की सभी रसीदें और एथलैटिक्स ट्रैक से संबंधित कागज भी मांगे है।

जिला क्रीड़ा अधिकारी ने बताया कि 27 अक्तूबर तक सभी कागज लखनऊ भेजने हैं। सूत्रों के अनुसार इस मामले में कई अफसरों पर गाज गिर सकती है।।

खेल विभाग से मिला प्रशस्ति पत्र
राजस्व में उल्लेखनीय वृद्धि के लिए जिला क्रीड़ा अधिकारी को खेल विभाग ने प्रशस्ति पत्र दिया है। निदेशक खेल कुंवर विक्रम सिंह ने राजस्व वृद्धि के लिए यह प्रशस्ति पत्र जारी किया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:स्वीमिंग पूल मामले में जांच कमेटी ने मांगे कागजात