DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्लास्टिक बधाइयां

दीपावली से पहले पुलिस ने इतनी जगह छापेमारी कर नकली मावा, नकली घी और नकली पनीर भारी मात्रा में पकड़ा। मगर, वो संगठित अपराधियों की ऐसी जमात नहीं पकड़ पाई, जो हर दीपावली लाखों-करोड़ों लोगों का जीना हराम करती है। ये कौम है, मोबाइल मैसेज माफिया की। हर त्योहार से पहले ये लोग हिंदी-अंग्रेजी के सैंकड़ों मैसेज फॉरवर्ड कर समाज में हाहाकार मचा देते हैं। घड़ी की सुई के बारह पर पहुंचते ही परिचितों के इनबक्सों पर हमला कर देते हैं। जिन लोगों को अंग्रेजी में ‘हाय’ लिखना नहीं आता, वो तीन-तीन पंक्तियों में शेक्सपियराना अंदाज में बधाई संदेश लिखते हैं। ऐसे संदेश मिलते ही दिल करता है कि उसी वक्त उस आदमी के घर जाऊं और उसे चप्पलों से पीटना शुरू कर दूं। कॉलर पकड़ उसे धमकाऊं कि आइंदा तुमने ऐसा कोई बनावटी बधाई संदेश फॉरवर्ड किया तो असली बम फेंक तुम्हारी जान ले लूंगा।

मैसेज फॉरवर्ड करने के पीछे भेजने वाले के छिपे प्यार और मानसिकता को मैं कभी नहीं समझ पाया। दोस्त-रिश्तेदारों को ऐसे निराले संदेश भेज हमें ये थोड़े ही न बताना है कि अगला ‘निराला’ मैं ही हूं। वैसे भी जिसे संदेश भेजा जा रहा है, वो आपका दोस्त या रिश्तेदार ही है, न कि कोई बड़ा प्रकाशक, जिसे आप अपनी काव्य-प्रतिभा से चमत्कृत कर किताब छपवाने की भूमिका बांध रहे हैं। ऐसा ही एक संदेश कहता है- आपकी उम्मीदों का प्रकाश, सफलता का आकाश और लक्ष्मी का वास..जीवन में हो सबसे खास-शुभ दीपावली। मेरा मानना है कि इसके पीछे भावना भले ही नेक है, मगर ऐसी तुकबंदी करने वाले को फौरन बंदी बना लेना चाहिए। किसी और के भेजे बनावटी संदेश को फॉरवर्ड कर, बिना सामने वाले को सम्बोधित किए, भावनाएं कैसे सम्प्रेक्षित हो सकती हैं, मेरी समझ से परे हैं।

रैंप पर चलते हुए एक मॉडल अपना पूरा करियर एक अदद प्लास्टिक मुस्कान के सहारे निकाल देती है। हिंदी फिल्मों के कितने ही जम्पिंग जैक कुछ-एक प्लास्टिक एक्सप्रेशन्स के जरिए तीन सौ से ऊपर फिल्में कर गए। सैंकड़ों-हजारों की तादाद में प्लास्टिक फूल हर दिन सड़कों पर बेचे जाते हैं। मगर जहां तक भावनाओं के इजहार की बात है, वहां तो हमें इन प्लास्टिक शुभकामनाओं से बचना चाहिए। किसी आयुर्वेदिक या होम्योपैथिक डॉक्टर ने ऐसी हिदायत नहीं दी और शास्त्रों में भी इसका कोई जिक्र नहीं, फिर भी, ऐसी प्लास्टिक बधाइयों का कारोबार जोरों पर है। जरूरत है कि पॉलीथीन की तरह इन प्लास्टिक बधाइयों पर भी बैन लगा देना चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:प्लास्टिक बधाइयां