DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शुरुआती दौर में पिछड़ने के बाद जीते राष्ट्रपति पुत्र

शुरुआती दौर में पिछड़ने के बाद जीते राष्ट्रपति पुत्र

महाराष्ट्र के विदर्भ क्षेत्र की अमरावती विधानसभा सीट पर राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल के पुत्र और कांग्रेस उम्मीदवार राजेंद्र राव साहेब शेखावत ने कांग्रेस के बागी सुनील देशमुख को करीबी मुकाबले में शिकस्त दी। निवर्तमान विधानसभा के सदस्य और राज्य के उर्जा मंत्री सुनील देशमुख को कांग्रेस ने शेखावत की उम्मीदवारी के कारण टिकट नहीं दिया था। शेखावत को कांग्रेस का टिकट मिलने के बाद इस सीट पर उम्मीदवारी विवादास्पद हो गयी। इसके बाद देशमुख ने राष्ट्रपति पुत्र के खिलाफ चुनाव लड़ने का फैसला किया।
   
शेखावत ने पूर्व में कहा था कि अगर मैं कांग्रेस के टिकट से लड़ रहा हूं तो इसमें मेरा क्या अपराध है। पार्टी का टिकट मिलने के लिये राष्ट्रपति का पुत्र होना न तो योग्यता है और न ही अयोग्यता। बतौर कांग्रेस सदस्य मुझे चुनाव लड़ने की मांग करने और चुनाव लड़ने का पूरा अधिकार है। पार्टी सूत्रों ने कहा कि देशमुख के समक्ष यह पेशकश रखी गयी थी कि अगर पार्टी सत्ता में लौटती है तो उन्हें अमरावती सीट छोड़ने के बदले बिना चुनाव लड़े कैबिनेट में जगह दी जायेगी या राज्यसभा में भेजा जायेगा। शुरुआती दौर की मतगणना में देशमुख शेखावत पर बढ़त बनाये हुए थे। लेकिन बाद में देशमुख के 55,717 मतों के मुकाबले 61,331 वोट हासिल कर उन्होंने चुनाव जीत लिया।

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:शुरुआती दौर में पिछड़ने के बाद जीते राष्ट्रपति पुत्र