DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इंसेट-ऑटोमैटिक सिग्नल सिस्टम के पालन में सावधानी जरुरी

रेलवे अफसरों की माने तो वेस्ट यूपी में अभी ऑटो मैटिक सिग्नल सिस्टम नहीं लगा है, लेकिन यदि इस सिस्टम में ट्रेन चालक जरा भी लापरवाही बरतता है तो दुर्घटना की संभावना अधिक रहती है। ऑटोमौटिक सिग्नल सिस्टम में ग्रीन सिग्नल की स्थिति रहती है, जबकि अन्य सिग्नल सिस्टम प्रणाली में रेड सिग्नल की कंडीशन होती है।

आमतौर पर ग्रीन सिग्नल मिलने पर ही साधारण सिग्नल सिस्टम में ट्रेन आगे बढ़ती है। बताते है कि एक ट्रैक पर दो ट्रेन नहीं ली जा सकती। इसमें न सिर्फ संचालन बल्कि ट्रेन चालक की लापरवाही जिम्मेदार है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:इंसेट-ऑटोमैटिक सिग्नल सिस्टम के पालन में सावधानी जरुरी