DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वसुंधरा ने फिर दिया चकमा, सुषमा से मिलने नहीं आयीं

वसुंधरा ने फिर दिया चकमा, सुषमा से मिलने नहीं आयीं

विधानसभा चुनावों में खराब प्रदर्शन के कड़वे दौर से गुजर रही भाजपा को गुरुवार को उस समय एक और मुसीबत का सामना करना पड़ा, जब कई दिनों से बागी तेवर अपनाये राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे पार्टी नेता सुषमा स्वराज से चर्चा के लिए तय समय पर नहीं आयीं। राजस्थान विधानसभा में विपक्ष की नेता वसुंधरा को गुरुवार को भाजपा नेता सुषमा से मिलना था। वह आज सुषमा से नहीं मिलीं और पार्टी उनके अगले कदम को लेकर एक बार फिर भ्रम की स्थिति में पड़ गयी है।
   
वसुंधरा से बातचीत के लिए नियुक्त की गयी सुषमा ने बताया कि वसुंधरा को मुझसे 20 अक्तूबर को मिलना था लेकिन उन्होंने कहा कि उन्हें किसी काम से मुंबई जाना पड़ रहा है और अब वह 21 या 22 अक्तूबर को मिलेंगी । लेकिन अभी तक मुझे उनकी ओर से कोई खबर नहीं है। इससे पहले पार्टी के एक अन्य वरिष्ठ नेता एम वेंकैया नायडू को वसुंधरा से बातचीत के लिए नियुक्त किया गया था लेकिन वह उनसे भी नहीं मिलीं ।

भाजपा ने शुक्रवार सुबह संसदीय बोर्ड की बैठक बुलायी है, जिसमें वसुंधरा मुद्दे के अलावा तीन राज्यों विशेषकर महाराष्ट्र के विधानसभा चुनावों में पार्टी के निराशाजनक प्रदर्शन पर चर्चा की जाएगी। इस बीच सूत्रों ने बताया कि वसुंधरा को सात नवंबर तक का समय दिया जा सकता है, जब राजस्थान में उपचुनाव प्रस्तावित हैं ।
   
एक आशंका यह भी व्यक्त की जा रही है कि वसुंधरा खुद हटने से पहले उन लोगों को हटाने की मांग कर सकती हैं, जो महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनावों में पार्टी के मामलों को लेकर जिम्मेदार थे। पार्टी आलाकमान ने वसुंधरा से अगस्त में कहा था कि वह राजस्थान में लोकसभा चुनाव और विधानसभा चुनावों में खराब प्रदर्शन की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए विपक्ष की नेता पद से इस्तीफा दे दें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:वसुंधरा ने फिर दिया चकमा, सुषमा से मिलने नहीं आयीं