DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गोरखपुर के सेवानिवृत्त आयकर आयुक्त को कर चोरी में नोटिस

गोरखपुर रेंज के सेवानिवृत्त पूर्व आयकर आयुक्त आरएन चौधरी द्वारा बिना टैक्स कटवाए ही आयुक्त के रूप में वेतन लेने व हर साल लाखों रुपये का रिफंड भी लिये जाने के मामले में दोषी पाया गया है। छह जिलों के अधिकारियों पर भी तलवार लटकी हुई है। यह खुलासा बुधवार को आयकर आयुक्त डॉ. सुधाकर तिवारी ने किया। आयुक्त ने कार्रवाई करते हुए पूर्व आयुक्त को कर चोरी के मामले में नोटिस भेजी है। निरीक्षण के दौरान मऊ कार्यालय में भी उन्हें कई खामियां मिली हैं। 

आयकर विभाग के कार्यालय में निरीक्षण के दौरान गोरखपुर रेंज के आयकर आयुक्त डॉ. सुधाकर तिवारी ने बताया कि, सेवानिवृत्त आयकर आयुक्त आर.एन. चौधरी अपनी तैनाती के दौरान बिना टैक्स कटवाए ही गोरखपुर में आयकर आयुक्त के रूप में कई साल तक वेतन लिया। हर साल लाखों रुपये का रिफंड भी उन्होंने लिया। पूरे मामले की जब उन्होंने स्वयं जांच की, तो यह चौंकाने वाले तथ्य मिले।

आरोप को भी सही पाया गया है, जिस पर उन्होंने पूर्व आयुक्त को रिटर्न दाखिल करने के लिए अलग-अलग वर्षो की आयकर अधिनियम की धारा 148 के अन्तर्गत नोटिस भेजी है। आयकर आयुक्त डॉ. तिवारी का यह भी कहना है कि, वर्तमान में पूर्व आयकर आयुक्त आर.एन. चौधरी पूरे मामले को जयपुर में स्थानान्तरित करवाना चाहते हैं, जिसे किसी भी कीमत पर नहीं होने दिया जाएगा।

आयकर आयुक्त डॉ. तिवारी ने यह भी बताया कि, इस तरह की कर चोरी के मामले में कई और अधिकारियों की जांच-पड़ताल की जा रही है। दोषी पाये जाने पर उनके खिलाफ भी कड़ी कार्रवाई की जाएगी। मऊ आयकर विभाग के निरीक्षण में उन्हें मौके पर कई खामियां मिली हैं, जिनमें कम्प्यूटर खराब होने और पैन कार्ड आजमगढ़ से मऊ के लिए ट्रान्सफर नहीं कराया जाना भी है।

उन्होंने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए आयकर अधिकारी को कड़े निर्देश दिये हैं। निरीक्षण के दौरान आयकर विभाग में हड़कम्प मचा रहा। आयकर आयुक्त ने शीघ्र ही विभाग को सभी संसाधन उपलब्ध कराने का भी आश्वासन दिया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गोरखपुर के सेवानिवृत्त आयकर आयुक्त को कर चोरी में नोटिस