DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पांच जिलों के आपराधिक मामलों की होगी समीक्षा

आपराधिक केसों में बेवजह फंसे लोगों के लिए अच्छी खबर है। पुलिस विभाग ने पांच जिलों के आपराधिक मामलों की समीक्षा करने का फैसला किया है। समीक्षा इस बारे में अपील करने पर होगी। खास बात यह है कि किसी मामले की जांच में अगर गड़बड़ पाई जाती है तो जांच अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई संभव है।

रोहतक रेंज के पुलिस महानिरीक्षक वी कामराज ने जिला रोहतक के अलावा जिला सोनीपत, झज्जर, सोनीपत, पानीपत व करनाल के आपराधिक मामलों की समीक्षा का फैसला लिया है।  जांच प्रक्रिया को पारदर्शी एवं निष्पक्ष बनाने के लिए ऐसा किया जा रहा है। संबंधित लोगों द्वारा अपील करने पर ऐसे केसों को आईजी कार्यालय में स्थापित क्राइम एनालिसिस विंग को दिया जाएगा।

कामराज ने बताया कि जांच अधिकारियों द्वारा किए जा रहे जांच कार्यो का निरीक्षण भी हो जाएगा और जो जो अधिकारी अभी जांच के कार्यो में पारंगत नहीं हुए हैं उनको भी कुछ सीखने को मिलेगा। उन्होंने यह भी कहा कि ऐसा करने में सच्चई सामने आ सकेगी। निदरेष लोगों को सजा नहीं मिलेगी। उन्होंने कहा कि जो लोग अपनी जांच से संतुष्ट नहीं हैं और समझते हैं इसमें कहीं न कहीं पुलिस अधिकारी एकतरफा हैं वे अपनी अपील कर सकते हैं।

क्राइम एनालिसिस विंग वैज्ञानिक तरीके से सच्चई तक पहुंचन का प्रयास करेगी। जांच में गड़बड़ी पाई जाती है तो संबंधित पुलिस जांच अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाही अमल लाई जा सकती है। कामराज ने बताया कि क्राइम के केसों पर नजर रखने के लिए सभी जिला मुख्यालयों पर क्राइम मोनिटरिंग सैल की स्थापना की गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पांच जिलों के आपराधिक मामलों की होगी समीक्षा