DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सदस्यों ने किया बीडीसी बैठक का बहिष्कार

क्षेत्र पंचायत की अब तक संपन्न हुई बैठकों में उठाई गई समस्याओं पर कार्रवाई न होने से गुस्साए जनप्रतिनिधियों ने अगस्त्यमुनि क्षेत्र पंचायत की बैठक का बहिष्कार कर दिया। कोरम पूरा न होने पर बैठक अधूरी छोड़नी पड़ी। ब्लॉक प्रमुख लक्ष्मी जग्गी और बीडीओ ने बार-बार सदस्यों से सदन में अपनी बात रखने का अनुरोध किया लेकिन सदस्य अपनी बात पर अड़े रहे। जिलाधिकारी रविनाथ रामन ने 17 नवम्बर को बैठक दोबारा आयोजित करने के निर्देश दिये हैं।

अगस्त्यमुनि क्षेत्र पंचायत की प्रस्तावित बैठक सदस्यों के आक्रोश के कारण नहीं हो पाई। प्रधान संगठन के जिलाध्यक्ष शांति चमोला एवं ब्लॉक अध्यक्ष विक्रम सिंह नेगी ने कहा कि सदस्यों द्वारा बीडीसी की बैठकों में उठाई गई समस्याओं पर अधिकारी कोई कार्यवाही नहीं करते हैं। कहा कि प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक विद्यालयों में सर्व शिक्षा अभियान के तहत जो योजनाएं सरकार चला रही है। निर्माण, पुनर्निर्माण एवं मध्याह्न् भोजन की योजनाओं का संचालन ग्राम प्रधानों द्वारा किया जाता है। जबकि वर्तमान में शासनादेश के तहत ग्राम प्रधानों से यह अधिकार छीन लिया गया है।

उन्होंने कहा कि लघु सिंचाई में ग्राम प्रधानों की सहमति से निर्माण करवाने के बजाय विभाग टेण्डर प्रक्रिया पर निर्माण कराकर पंचायतों के अधिकारी छीन रहा है। प्रधान संगठन ने उत्तराखण्ड के निगमों की बसों में नि:शुल्क यातायात सुविधा, पांच हजार मानदेय दिये जाने की मांग की। नरेगा में एनजीओ के माध्यम से बनाई गई योजनाओं का विरोध किया गया। सदस्य बैठक का बहिष्कार करते हुए सदन से बाहर आग गये।

 जिलाधिकारी रविनाथ रामन के पहुंचने पर प्रधान संगठन ने डीएम के सामने सारी बातें रखीं। डीएम ने उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया है। उन्होंने 17 नवंबर को बैठक दोबारा बुलाने के निर्देश दिए। इस अवसर पर जिला पंचायत सदस्य अवतार सिंह राणा, वीर सिंह बुढेरा सहित कई क्षेत्र पंचायत सदस्य एवं ग्राम प्रधान उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सदस्यों ने किया बीडीसी बैठक का बहिष्कार