DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शाहदत के मामले में यूपी पुलिस नंबर वन

परायणता के लिए प्राण न्यौछावर करने वालों में इस बार भी यूपी पुलिस के जवान देश भर में अव्वल रहे हैं। नागरिकों की सुरक्षा और कर्तव्य की बलि वेदी पर देशभर से एक साल के भीतर 833 पुलिसकर्मियों ने अपने जीवन की आहुति दी है। इनमें से 107 शहीद पुलिसकर्मी अकेले यूपी पुलिस के हैं। मेरठ में भी पुलिस स्मृति दिवस के मौके पर पुलिस लाइन में बुधवार को शोक परेड का आयोजन किया गया।

पुलिस-पीएसी अधिकारियों ने शहीद स्मारक पर पुष्प चक्र एवं फूलमालाएं अर्पित कर शहीदों को श्रद्धांजलि दी। इस दौरान आईजी जावेद अख्तर ने शहीद हुए पुलिसकर्मियों के नामों को पढ़कर शहीदों के परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त की। पुलिसकर्मियों को अपने कर्तव्य के प्रति सजग रहने और त्याग के लिए सदैव तैयार रहने का आह्ववान किया। पुलिस लाइन में सुबह शोक परेड का आयोजन किया गया। इस दौरान देश के लिए अपने प्राण न्यौछावर करने वाले अमर शहीदों को याद किया गया।

आलाधिकारी और पुलिस जवानों ने शहीद स्मृति स्थल पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। इस मौके पर डीआईजी, एसपी देहात, एसपी ट्रैफिक, एसपी क्राइम, एसपी सिटी, छठी और 44 वीं वाहिनी पीएसी के कमांडेट, एएसपी, आरआई एवं सभी सीओ और थानेदार मौजूद रहे। समारोह की अध्यक्षता डीआईजी एमके बशाल और आईजी जावेद अख्तर ने की। आरआई आरएल निरंजन ने बताया कि इस साल खरखौदा में बदमाशों से मुठभेड़ के दौरान शहीद हुए सुंदर सिंह की पत्नी मंजू का सम्मान बुलंदशहर पुलिस लाइन में किया गया है।

देशभर में शहीद हुए पुलिसकर्मियों में यूपी के पुलिसकर्मी अन्य राज्यों के मुकाबले सबसे ज्यादा शहीद हुए। इसके अलावा सबसे ज्यादा महाराष्ट्र के 72 पुलिसकर्मी शहीद हुए हैं। एक साल के भीतर यूपी पुलिस में एक दलनायक, 18 एसआई, एक एसआई, तीन एएसआई, 16 हेडकांस्टेबल, 65 कांस्टेबल, दो फायरमैन, दो चालक शहीद शामिल हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:शाहदत के मामले में यूपी पुलिस नंबर वन