DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सेना में मानव और मशीन की कमी पर चिन्ता

सेना में मानव और मशीन की कमी पर चिन्ता

सेना के वरिष्ठ कमांडरों ने बुधवार को यहां शुरू हुए अपने चार दिवसीय सम्मेलन में बड़ी संख्या में अधिकारियों और नये हथियारों की कमी पर गहरी चिन्ता व्यक्त की तथा साथ ही मानव और मशीन के मोर्चे पर बढ रहे अंतर को कम करने के तरीकों पर विचार किया।

दिन भर की बैठक के बाद सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि इस समय अधिकारियों की संख्या में लगभग 25 फीसदी की कमी है। सैन्य अधिकारियों की मंजूर संख्या 40 हजार है। इनमें से 11, 500 अधिकारियों की कमी है। सैन्य कमांडरों ने इस कमी को दूर करने के तौर तरीकों पर चर्चा की।
   
उन्होंने कहा कि सैन्य तोपों की खरीद योजना पिछले दो दशकों से अधर में है और हवाई सुरक्षा एवं विमानन हथियारों की कई अन्य योजनाएं भी लंबित हैं। सम्मेलन में खरीद प्रक्रिया को सरल बनाने और सेना के लिए नये हथियारों एवं उपकरणों की खरीद में होने वाले विलंब को समाप्त करने के बारे में चर्चा की गयी ताकि आधुनिक योजनाओं के साथ लय बनायी रखी जा सके।
   
अधिकारियों की कमी दूर करने और समय पूर्व रिटायरमेंट के हर साल मिलने वाले 1500 आवेदनों के प्रभाव के बारे में कमांडरों के सामने एक प्रस्तुतिकरण भी दिया गया। बैठक में अधिकारियों की कमी को दूर करने के फौरी उपायों पर चर्चा के साथ साथ इस बात पर भी बातचीत हुई कि कमी का आंकड़ा जोखिम के स्तर तक न पहुंचने पाये।
   
पिछले साल सेना के एक आंतरिक अध्ययन में संकेत मिला है कि यदि अभी से सुधारात्मक उपाय शुरू किये जाएं तो अधिकारियों की संख्या में व्याप्त अंतर को पाटने में 20 साल लगेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सेना में मानव और मशीन की कमी पर चिन्ता