DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

6.75 प्रतिशत रहेगी आर्थिक वृद्धि दर: पीएमईएसी

6.75 प्रतिशत रहेगी आर्थिक वृद्धि दर: पीएमईएसी

प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद (पीएमईएसी) ने कहा कि कमजोर मानसून से कृषि उत्पादन पर पड़ने वाले प्रभावों के बावजूद चालू वित्त वर्ष में भारतीय अर्थव्यवस्था की आर्थिक वृद्धि दर 6.75 प्रतिशत रहेगी।

पीएमईएसी के चेयरमैन सी रंगराजन द्वारा 2009-10 के लिए आर्थिक परिदृश्य पर प्रधानमंत्री को सौंपी गई रिपोर्ट में कहा गया है कि ऐसा नहीं लगता कि आर्थिक वृद्धि दर 6.25 प्रतिशत से नीचे जाएगी, बल्कि यह
6.75 प्रतिशत पर जा सकती है।

पीएमईएसी का मानना है कि अर्थव्यवस्था की वृद्धि दर औसतन 6.5 फीसद रहेगी। वैश्विक वित्तीय संकट के कारण देश की आर्थिक वृद्धि दर 2008-09 में घटकर 6.7 प्रतिशत पर आ गई थी। इससे पिछले तीन वित्तीय वर्षों में अर्थव्यवस्था की वृद्धि दर 9 प्रतिशत से ऊपर रही थी।

पीएमईएसी ने आगे कहा कि महंगाई की दर जो इस समय एक प्रतिशत के आसपास चल रही है, चालू वित्त वर्ष के अंत तक छह प्रतिशत पर पहुंच जाएगी। कृषि क्षेत्र के बारे में रिपोर्ट में कहा गया है कि कमजोर मानसून के प्रभाव से कृषि उत्पादन में दो प्रतिशत की कमी आएगी। पिछले वित्त वर्ष में कृषि क्षेत्र की वृद्धि दर 1.6 प्रतिशत रही थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:6.75 प्रतिशत रहेगी आर्थिक वृद्धि दर: पीएमईएसी